महिला विज्ञान-अंतरिक्ष

Sanjal Gavande : भारत की बेटी दे रही हैं जेफ बेजोस के सपनों को उड़ान

Sanjal-Gavande
Spread It

पिछले हफ्ते, दुनिया ने भारत में जन्मी सिरीशा बंदला (Sirisha Bandla) को अंतरिक्ष में सफल उड़ान भरते देखा। उन्होंने वर्जिन गेलेक्टिक के अंतरिक्ष यान में अंतरिक्ष के किनारे की यात्रा की। अब कुछ ही दिनों बाद, अंतरिक्ष इतिहास में भारतीय मूल की महिलाओं की सूची में एक और नाम जुड़ गया है। भारत की बेटी ‘संजल गवांडे’ (Sanjal Gavande) दे रही हैं जेफ बेजोस (Jeff Bezos) के सपनों को उड़ान। दरअसल, संजल ने उस रॉकेट का निर्माण किया है, जिसकी मदद से दुनिया के सबसे आमिर आदमी में से एक जेफ़ बेजोस, अंतरिक्ष की यात्रा करेंगे।

Amazon के संस्थापक जेफ बेजोस 20 जुलाई को यानी की आज, अपने क्रू के साथ अंतरिक्ष की यात्रा पर जाने को तैयार हैं। स्पेस एक्सप्लोरेशन के क्षेत्र में जेफ बेजोस की कंपनी ब्लू ऑरिजिन के लिए ‘New Shepard’ नाम का रॉकेट सिस्टम तैयार किया गया है। बेजोस की इस यात्रा के लिए जिस रॉकेट का निर्माण किया गया है, उसको बनाने वाले 13 इंजीनियरों की टीम में भारत की एक महिला इंजीनियर भी शामिल है। ये महिला महाराष्ट्र की संजल गवांडे हैं। इस उपलब्धि पर उन्होंने ख़ुशी ज़ाहिर करते हुए कहा, “मैं बहुत खुश हूं कि मेरा बचपन का सपना अब पूरा होने जा रहा है। टीम ब्लू ऑरिजिन का हिस्सा बनकर मैं गर्व महसूस कर रही हूं।”

अब दुनिया भर की महिलाओं के लिए प्रेरणा, संजल का जन्म कल्याण के कोलसेवाड़ी परिसर के हनुमाननगर क्षेत्र में हुआ था। उनके पिता कल्याण-डोंबिवली नगर निगम से रिटायर्ड हैं, जबकी उनकी माँ MTNL से रिटायर हुई हैं। एक “silent child” के रूप में कहे जाने वाली, संजल ने कम उम्र से ही अंतरिक्ष के सपने देखना शुरू कर दिया था। ड्राइंग में उनके टैलेंट ने मैकेनिकल इंजीनियरिंग में उनकी इंट्रेस्ट को जन्म दिया। उन्होंने साल 2011 में मुंबई यूनिवर्सिटी से मैकैनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की और इसके बाद उन्होंने अमेरिका की मिशिगन टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी से आगे की पढ़ाई की।

ऑरेंज काउंटी, कैलिफ़ोर्निया द्वारा Pilot of the Year 2021 के रूप में घोषित किए जाने के बाद संजल, अपने सपने के करीब एक कदम आगे बढ़ गई। उन्होंने मर्करी मरीन के साथ काम किया, फिर वह कैलिफोर्निया के ऑरेंज सिटी में टोयोटा रेसिंग डेवलपमेंट के साथ काम करने गई। 2016 में पायलट का लाइसेंस प्राप्त करने के बाद, संजल ने नासा में एड्मिशन के लिए अप्लाई किया, लेकिन सिटिजनशिप को लेकर किन्हीं मुद्दों के कारणों से उनकी ऐप्लिकेशन मंज़ूर नहीं हो पाई थी।

यह उनकी कड़ी मेहनत का ही फल है कि सॉफ्टवेयर हार्डवेयर की जानकार संजल को ब्लू ओरिजिन द्वारा न्यू शेपर्ड मिशन के लिए चुना गया। यहां सिस्टम इंजिनियर के पद पर उनका सेलेक्शन हो गया और अब वो जेफ बेजोस और उनकी कंपनी के इस सपने को पूरा करने वाली टीम का हिस्सा हैं। संजल का एयरोस्पेस रॉकेट डिजाइन करने का सपना था और उन्होंने इसे हासिल कर ही लिया और अब वो कई लोगों की प्रेरणा बन गयीं हैं।