महिला

हर डर से निडर बनायेगा ‘अभयम’

मुख्यमंत्री वाई.एस. जगन मोहन रेड्डी ने ताड़पल्ली के कैंप कार्यालय में “अभयम” मोबाइल फोन एप्लिकेशन लॉन्च किया, जो किसी भी आपात स्थिति में अलार्म बजाने के लिए टैक्सियों और ऑटोरिक्शा में यात्रा करने वाली महिलाओं और बच्चों की मदद करता है। यह एप कैब और आटो में सफर करने वाली महिलाओं व बच्चों की सुरक्षा के लिए तैयार किया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि, “सरकार ने महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता दी है और आंध्र प्रदेश महिलाओं की सुरक्षा के लिए एक कानून (Disha Bill) लाने वाला पहला राज्य है।“ उनहोंने स्पष्ट किया कि महिलाओं व बच्चों की सुरक्षा के मामले में किसी तरह का समझौता नहीं किया जाएगा। उन्होंने अधिकारियों को कानून-व्यवस्था को प्राथमिकता देने का आदेश दिया।

ऑटो और कैब में सफर करने वालों को अपने मोबाइल पर अभयम मोबाइल एप्लिकेशन इंस्टाल करना होगा और वाहन में चढ़ने से पहले, यात्री को वाहन पर अंकित क्यूआर कोड को स्कैन करना होगा। ड्राइवर का विवरण और फोटो मोबाइल पर प्रदर्शित किया जाएगा। यदि स्मार्टफोन का उपयोग करने वाली महिलाओं को अपनी यात्रा में कठिनाई होती है, तो वे ऐप से पुलिस को वाहन नंबर भेज सकती हैं और वाहन के ठिकाने को जीपीएस के माध्यम से उन्हें ट्रैक किया जा सकता है।   स्मार्ट फोन नहीं रहने वाले यात्री वाहन में लगे IoT उपकरण में लगा पैनिक बटन दबाने पर सूचना कमांड कंट्रोल सेंटर पहुंचेगा और कैब/ऑटो तुरंत रुक जाएगा। इसके तुरंत बाद पास के पुलिस अधिकारियों तक इसकी सूचना मिल जाएगी।

अभयम परियोजना, एक राज्य आधारित Internet  of Things (IoT)  परियोजना है जिसे भारत सरकार ने निर्भया योजना के तहत मंजूरी दी है। आरंभ करने के लिए, विशाखापत्तनम शहर में 1,000 ऑटो रिक्शा IoT से इनेबल्ड जीपीएस उपकरणों को चालू किया जाएगा। यात्रा के दौरान ट्रैकिंग के लिए इस एप में खास उपकरणों की व्यवस्था की गई है। फरवरी तक लगभग 5,000 वाहनों को 1 जुलाई तक 1,50,000 और नवंबर 2021 तक 1 लाख वाहनों को प्लेटफॉर्म पर लाया जाएगा जो विजयवाड़ा और तिरुपति और बाद में अन्य शहरों को कवर करेगा।