फुल वॉल्यूम 360°

Railway ड्राइवर करेंगे डबल ड्यूटी, Train में गार्ड की भी संभालेंगे जिम्मेदारी, बहाली नहीं होने के कारण सरकार ने जारी किया आदेश

Train-driver
Share Post

DESK : देश में बेरोजगारी तेजी से बढ़ रही है. सरकारी विभागों और अन्य सेक्टरों में लाखों की संख्या में पद खाली (Vacant Seats) हैं. लेकिन सरकार इसे भरने के मूड में नहीं है. जैसे-जैसे सरकारी सेक्टर में लोग रिटायर हो रहे हैं. वैसे-वैसे बचे हुए कर्मियों के ऊपर वर्क लोड बढ़ता ही जा रहा है. ताजा मामला रेलवे (Railway) से जुड़ा हुआ सामने आया है, जिसके बारे में जानकार आप ही दंग रह जायेंगे. दरअसल, सरकार ने ट्रेन ड्राइवर (Train Driver) को डबल ड्यूटी करने का आदेश जारी किया है.

रेलवे (Railway)के उच्चाधिकारियों द्वारा ईस्ट सेंट्रल रेलवे (East Central Railway) के अफसरों को पत्र लिखा गया है. जिसकी कॉपी भी सामने आई है. पूर्व मध्य रेलवे अंतगर्त कृष्णशिला और शक्ति नगर ले स्टेशन प्रबंधक (Station Manager) को पत्र लिखकर यह जानकारी दी गई है कि दोनों ही स्टेशनों पर 10-10 असिस्टेंट लोको पायलट (ALP) अगले तीन महीने तक रेलवे गार्ड यानी कि ट्रेन मैनेजर का काम करना होगा. आपको बता दें कि काफी लंबे समय से रेलवे में गार्ड की बहाली नहीं हुई है.

इसके लिए रेलवे (Railway) द्वारा बाकायदा रोस्टर भी तैयार किया गया है. जिसमें 20 ट्रेन ड्राइवरों (Train Driver) का नाम दिया गया है. हालांकि रेलवे (Railway) की ओर से इसे अस्थायी कार्य कहा गया है. जिन 20 लोको पायलट (loco pilot) को यह गार्ड (Guard) का काम सौंपा गया है, उन्हें अगले तीन महीने तक ये काम करना पड़ेगा. रेलवे (Railway) की ओर से जारी यह पत्र सार्वजनिक होने के बाद कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं. अगर रेलवे (Railway) में कर्मचारियों की कमी है तो आखिरकार सरकार उनकी बहाली क्यों नहीं कर रही है.

आपको बता दें कि रेलवे (Railway) में तक़रीबन 3 लाख से ज्यादा पद खाली हैं. हाल ही में केंद्र सरकार ने इसकी जानकारी दी थी. जिसकी खबर हमने पहले भी दिखाई थी. इस देश के भीतर भारी संख्या में युवक बेरोजगारी की मार झेल रहे हैं. लेकिन सरकार की ओर से नियमित अंतराल पर बहाली नहीं की जा रही है. पिछले साढ़े तीन साल से सरकार एनटीपीसी और ग्रुप डी (Railway NTPC Group D)की बहाली संपन्न नहीं करा पाई है. जिसे लेकर जनवरी महीने में देश भर में प्रदर्शन भी किया गया.

आपको बता दें कि बिहार (Bihar) के पूर्व उपमुख्यमंत्री और बीजेपी के सांसद सुशील कुमार मोदी ने राज्यसभा में केंद्र सरकार से एक बड़ा सवाल किया था. बीजेपी (BJP) के राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने राज्यसभा में सरकार पांच बिन्दुओं पर जानकारियां मांगी थीं. जिसमें रेलवे (Railway) में कितने पद खाली हैं. इसपर भी सवाल किया गया था. इसेक जवाब में रेल मंत्रालय (Ministry of Railway) की ओर से कहा गया कि रेलवे (Railway) में फिलहाल तीन लाख पद रिक्त पड़े हैं.

रेल मंत्रालय द्वारा दिए गए आधिकारिक आंकड़े के अनुसार देश में सबसे अधिक सरकारी नौकरी रेलवे (Railway) के माध्यम से आती है और आज की तारीख में सबसे ज्यादा पद इसी विभाग में खाली हैं. रेलवे (Railway) में एक फरवरी 2020 के अनुसार कुल 3 लाख 1 हजार 413 पद खाली हैं. जबकि पिछले पांच सालों की बात की जाये तो कुल मिलाकर 2 लाख 60 हजार 11 रेल कर्मचारी रिटायर हुए हैं.

साल दर साल अगर बात की जाये तो वर्ष 2019 में 62 हजार 940, वर्ष 2020 में 62 हजार 282, वर्ष 2021 में 56 हजार 797 रेल कर्मी सेवानिवृत हुए हैं. जबकि इस साल 2022 में 41 हजार 431 और अगले साल 2023 में कुल 36 हजार 561 रेल कर्मी रिटायर होने जा रहे हैं. ये रेलवे द्वारा दिए गए आधिकारिक आंकड़े हैं. फिलहाल रेलवे में 15 लाख 6 हजार 299 कर्मी कार्यरत हैं, जिनमें 17 हजार 894 राजपत्रित और 14 लाख 88 हजार 405 अराजपत्रित कर्मी शामिल हैं.

आपको बता दें कि वर्तमान में आरआरबी द्वारा 1 लाख 40 हजार 731 रिक्तियां तीन केन्द्रीकृत रोजगार अधिसूचना के माध्यम से भरी जानी है. इसमें ग्रुप डी और एनटीपीसी की बहाली भी शामिल है, जिसकी भर्ती प्रक्रिया लगभग साढ़े तीन साल से लटकी हुई है. हाल ही में हुए रेलवे अभ्यर्थियों का आंदोलन उनके संयम का टूटने का सबसे बड़ा उदाहरण था, जो बिहार में हुआ, उसे पूरे देश ने देखा.

रेल मंत्रालय (Ministry of Railway) ने भाजपा सांसद सुशील मोदी को रिक्त पदों की विस्तृत जानकारी भी साझा किया है. उन्होंने बताया है कि रेलवे के अलग-अलग जोन को मिलाकर तीन लाख से अधिक पद रिक्त हैं. सबसे अधिक रिक्त पदों की संख्या उत्तर रेलवे में 37 हजार 433 के करीब है. इसके बाद मध्य रेलवे में 27 हजार 482 और पश्चिम रेलवे में 26 हजार 351 पद रिक्त हैं.

list

जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया राज्यसभा सांसद सुशील मोदी ने रेल मंत्रालय से पांच बिन्दुओं पर जानकारियां मांगी थीं. इनमें रेलवे की प्रत्येक श्रेणी के कुल स्वीकृत पद, जोनवार रिक्तियों की संख्या, पिछले तीन वर्षों में रेलवे की ओर से की गई भर्तियां, तीन वर्षों में सेवानिवृत्त कर्मियों की संख्या और एक साल में कितने कर्मी सेवानिवृत्त होंगे, इसकी जानकारी मांगी गई थी. इन सभी बिन्दुओं पर रेल मंत्रालय की ओर से जवाब दिया गया है.

train driver 1

Latest News

To Top