फुल वॉल्यूम 360°

Putin-Modi की मुलाकात पर दुश्मनों की नजर, इन समझौतों के बाद और मजबूत हुई दोस्ती

india-russia-1
Share Post

DESK : भारत और रूस की दोस्ती की चर्चा दुनिया भर में होती है. सोमवार को रूस के राष्ट्रपति पुतिन भारत में थे. उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात भी की. इस मुलाकात में दोनों देशों के बीच कई अहम समझौते भी हुए. इन समझौतों और पुतिन-मोदी (Putin-Modi) की मुलाकात की खबरों ने कई देशों की नींद उड़ा दी है.

दरअसल, बीती शाम दिल्ली का हैदराबाद हाउस ऐतिहासिक मुलाकात का गवाह बना. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीरें ना सिर्फ सोशल मीडिया पर वायरल हुईं बल्कि इन तस्वीरों ने सरहदों को पार कर कई देशों को संदेश भी दिया.

मोदी से मुलाकात के दौरान रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने भारत को एक बहुत बड़ी शक्ति बताया. उन्होंने आतंकवाद और संगठित अपराध पर साझा चिंता जताई. पुतिन ने अफगानिस्तान में घटनाक्रमों को लेकर भी चिंता जताई. उन्होंने कहा कि भारत और रूस क्षेत्र में सामने आ रही बड़ी चुनौतियों पर कोऑर्डिनेशन जारी रखेंगे.

इसके अलावा दोनों देशों ने शिखर वार्ता में रक्षा, व्यापार और निवेश समेत कुल 28 समझौतों और एमओयू पर हस्ताक्षर किए. मुलाकात के बाद 99 बिन्दुओं पर संयुक्त बयान भी जारी किया गया. इसमें अंतरिक्ष, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, आतंक और अफगानिस्तान से जुड़े मुद्दों को भी शामिल किया गया.

केवल 6 घंटे के लिए भारत पहुंचे रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच हैदराबाद हाउस में लंबी बैठक चली. पीएम ने पुतिन का स्वागत करते हुए कहा कि भारत के प्रति आपका जो लगाव है, आपकी जो निजी प्रतिबद्धता है, वह इस बात का प्रमाण है कि भारत-रूस संबंधों का कितना महत्व है. पिछले दशकों में वैश्विक स्तर पर कई बदलाव आए हैं. कई तरह के भू-राजनीतिक समीकरण उभरे हैं. लेकिन इन सब के बीच भारत -रूस मित्रता लगातार बनी रही.

Latest News

To Top