फुल वॉल्यूम 360°

नए साल में Bihar के 21 IAS अधिकारी हो जायेंगे रिटायर, मुख्य सचिव समेत इन अफसरों की होगी विदाई, यहां देखिये पूरी लिस्ट

Bihar-IAS
Share Post

PATNA : ये साल 2021 का आखिरी सप्ताह चल रहा है. 2021 खत्म होने के बाद नए साल में 21 IAS अधिकारी भी रिटायर हो जायेंगे. बिहार (Bihar) के मुख्य सचिव त्रिपुरारि शरण समेत सूबे के कई सरकारी विभागों में तैनात तेज-तर्रार अफसरों की विदाई हो जाएगी. इस खबर में नीचे भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) के उन 21 अधिकारियों की लिस्ट दी हुई है, जो नए साल में सेवानिवृत हो जायेंगे.

चीफ सेक्रेटरी भी होंगे रिटायर
जैसा कि, हमने आपको पहले ही बताया कि नए साल में बिहार के 21 IAS अधिकारी रिटायर हो जायेंगे. इनमें कुछ ऐसे अधिकारी भी शामिल हैं, जिनकी गिनती बेहतरीन अधिकारी के रूप में की जाती है. जो काफी तेज-तर्रार और अहम अधिकारी माने जाते हैं. बिहार सामान्य प्रशासन विभाग की ओर से मिली जानकारी के अनुसार कुछ अधिकारी ऐसे हैं, जिनकी सेवा इस साल के अंत में ही समाप्त हो जाएगी. इस लिस्ट में बिहार के चीफ सेक्रेटरी का भी नाम शामिल है.

4 मुख्य सचिव और एक प्रधान सचिव
2022 में रिटायर होने वाले अधिकारियों में मुख्य सचिव स्तर के चार, प्रधान सचिव स्तर के एक, विशेष सचिव स्तर के 9 और संयुक्त सचिव स्तर के सात अधिकारियों के नाम शामिल है. 1985 बैच के आईएएस और बिहार के मुख्य सचिव त्रिपुरारि शरण 31 दिसंबर को ही रिटायर हो जायेंगे. दरअसल त्रिपुरारि शरण इसी साल मई महीने में ही रिटायर हो जाते लेकिन इन्हें राज्य सरकार ने तीन-तीन महीने का दो बार एक्टेंशन दिया. जिसके कारण इनकी सेवानिवृति की तिथि 31 दिसंबर 2021 हो गई.

IAS अतुल प्रसाद भी होंगे रिटायर
सूबे के सबसे बड़े अधिकारी त्रिपुरारि शरण के अलावा चीफ सेक्रेटरी रैंक के संजीव कुमार सिन्हा, अतुल प्रसाद और सुधीर कुमार भी रिटायर हो जायेंगे. 1986 बैच के संजीव कुमार सिन्हा फिलहाल राजस्व पार्षद के अध्यक्ष हैं, जो नए साल में 31 मई को रिटायर होंगे. 1987 बैच के अतुल प्रसाद समाज कल्याण विभाग के अपर मुख्य सचिव हैं. अतुल नए साल में दो महीने ही काम करेंगे. 28 फ़रवरी 2022 को ये सेवानिवृत हो जायेंगे. इनके अलावा बिहार के मुख्य जांच आयुक्त और 1988 बैच के आईएएस सुधीर कुमार 31 मार्च 2022 को रिटायर हो जायेंगे.

BPSC के सचिव केशव रंजन भी शामिल
प्रधान सचिव स्तर के अधिकारी की बात करें तो राजस्व पार्षद के अपर सदस्य सुधीर कुमार 28 फरवरी 2022 को रिटायर होंगे. आईएएस सुधीर कुमार 1987 बैच के अफसर हैं. इन अफसरों के अलावा स्टेट सिविल सर्विस के भी कई अधिकारी रिटायर होंगे, जिनका प्रोमोशन आईएएस अधिकारी के रूप में हुआ है. इस लिस्ट में, बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) के सचिव केशव रंजन प्रसाद का नाम शामिल है. बीपीएससी के सचिव केशव रंजन प्रसाद 31 जनवरी 2022 को रिटायर होंगे.

9 विशेष सचिवों की विदाई
उद्योग विभाग के विशेष सचिव नरेंद्र कुमार सिन्हा 30 नवंबर, पंचायती राज विभाग के विशेष सचिव हरेंद्र नाथ दुबे 31 जनवरी, वित्त विभाग के विशेष सचिव गोरखनाथ 31 दिसंबर, पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग की विशेष सचिव मधुरानी ठाकुर 31 दिसंबर, प्राथमिक शिक्षा के निदेशक अमरेंद्र प्रसाद सिंह 31 दिसंबर, वाणिज्यकर विभाग के विशेष सचिव अरुण कुमार मिश्रा 31 दिसंबर, नगर विकास एवं आवास विभाग के विशेष सचिव सतीश कुमार सिंह, 31 जुलाई और छात्र एवं युवा कल्याण विभाग के निदेशक डॉ संजय सिन्हा 31 दिसंबर 2021 को रिटायर होंगे.

7 संयुक्त सचिव भी होने सेवानिवृत
संयुक्त सचिव स्तर के सात अफसर भी नए साल में रिटायर होंगे. इनमें लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण के संयुक्त सचिव राम अनुग्रह नारायण, बिहार राज्य कर्मचारी चयन आयोग (BPSC) के सचिव ओम प्रकाश पाल, सामान्य प्रशासन विभाग के संयुक्त सचिव जय शंकर प्रसाद, सामान्य प्रशासन विभाग के ही संयुक्त सचिव विमलेश कुमार झा, पूर्णिया के बंदोबस्त पदाधिकारी ऋषिदेव झा, ग्रामीण विकास विभाग के संयुक्त सचिव संजय कुमार सिंह और बिहार राज्य पथ परिवहन के प्रशासक श्याम किशोर का नाम शामिल है.

आपको बता दें कि बिहार में नए मुख्य सचिव को लेकर अटकलें तेज हो गई हैं. 1987 बैच के आईएएस अफसर आमिर सुबहानी को बिहार का नया मुख्य सचिव बनाया जा सकता है. क्योंकि 1985 बैच के अधिकारी त्रिपुरारि शरण इसी साल 31 दिसंबर को रिटायर हो जायेंगे. त्रिपुरारि शरण के रिटायरमेंट की बात सामने आने के बाद ही पावर कॉरिडोर में यह चर्चा तेज है कि विकास आयुक्त आमिर सुबहानी को ही नीतीश सरकार राज्य का सबसे बड़ा अधिकारी बनाएगी. दूसरा संयोग ये भी है कि विकास आयुक्त को ही मुख्य सचिव बनाए जाने की परंपरा रही है. यह परंपरा अगर आगे बढ़ती है तो आमिर सुबहानी को मुख्य सचिव का पद मिलना तय है.

संजीव नहीं, सुबहानी भारी
एक बात और, वरीयता के लिहाज से आमिर सुबहानी से ऊपर संजीव कुमार सिन्हा हैं. संजीव कुमार सिन्हा फिलहाल राजस्व परिषद के अध्यक्ष और सदस्य के पद पर पदस्थापित हैं. संजीव कुमार सिन्हा 1985 बैच के अधिकारी हैं जबकि आमिर सुबहानी उनसे 2 साल बाद 1987 बैच के आईएएस अधिकारी हैं. जैसा कि हमने आपको शुरू में ही बताया कि संजीव सिन्हा अगले साल 2022 के मई में रिटायर हो जाएंगे जबकि आमिर सुहानी 2024 तक सरकारी सेवा में बने रहेंगे.

पावर कॉरिडोर में आमिर सुबहानी की चर्चा
गौरतलब हो कि 1993 बैच के सीनियर आईएएस अफसर संदीप पौण्डरीक को योजना एवं विकास विभाग का नया प्रधान सचिव बनाये जाने के बाद पटना सचिवालय के गलियारे में फिर से नए मुख्य सचिव के नाम को लेकर कयासों का दौर शुरू हो गया है. पावर कॉरिडोर में इस बात को लेकर चर्चा है कि बिहार के मुख्‍य सचिव त्रिपुरारी शरण इसी महीने रिटायर होंगे और उनके जाने के बाद आमिर सुबहानी को ही चीफ सेक्रेटरी बनाया जा सकता है.

वरीयता के हिसाब से संजीव अव्वल
वरीयता के लिहाज से देखें तो वर्तमान में राजस्व पर्षद के अध्यक्ष सह सदस्य संजीव कुमार सिन्हा सबसे पहले नंबर पर हैं. संजीव कुमार सिन्हा 1986 बैच के अधिकारी हैं. लेकिन वह लगभग 5 ही महीने बाद मई 2022 में रिटायर हो जायेंगे. इसलिए उन्हें मुख्य सचिव के पद पर तैनात किए जाने को ले फिलहाल कोई चर्चा नहीं है.

आमिर सुबहानी सबसे बड़े दावेदार
संजीव कुमार सिन्हा के बाद सीनियरटी के हिसाब से 1987 बैच के अधिकारी आमिर सुबहानी का नंबर है. वर्तमान में वे विकास आयुक्त की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं. आपको बता दें कि बिहार में तो यह पुरानी परंपरा रही है कि सरकार विकास आयुक्त को ही मुख्य सचिव बनाती रही है. हालांकि हालिया मुख्य सचिव त्रिपुरारी शरण इस मामले में अपवाद रहे. हाल के दिनों में मुख्य सचिव रहे दीपक कुमार और अरुण कुमार सिंह इस ओहदे पर पदस्थापित होने से पहले विकास आयुक्त रहे थे.

दो ही महीने में रिटायर हो जायेंगे अतुल प्रसाद
आमिर सुबहानी के बाद वरीयता के लिहाज से अतुल प्रसाद का नाम आता है. अतुल प्रसाद भी 1987 बैच के अधिकारी हैं. वर्तमान में वे समाज कल्याण विभाग के अपर मुख्य सचिव हैं. लेकिन अतुल प्रसाद भी लगभग दो महीने बाद ही नए साल के फरवरी महीने में रिटायर हो जायेंगे. आपको बता दें कि अगर आमिर सुबहानी को मुख्य सचिव बनाया जाता है, तो वह अप्रैल 2024 तक इस पद पर रहेंगे.

आमिर सुबहानी ही क्यों
आमिर सुबहानी बिहार सरकार के चहेते और काम से मतलब रखने वाले अधिकारी के रूप में जाने जाते हैं. सिविल सर्विस की परीक्षा में वे टॉपर भी थे. उन्हें अगर मुख्य सचिव बनाया गया, तो नए विकास आयुक्त की भी तैनाती होगी. लेकिन फिलहाल नीतीश सरकार ने तेजतर्रार आईएएस अधिकारी संदीप पौण्डरीक को योजना एवं विकास विभाग का नया प्रधान सचिव बना दिया है.

Latest News

To Top