फुल वॉल्यूम 360°

बिहार सरकार ने तय किया कोरोना इलाज का रेट, Private Hospital की नहीं चलेगी मनमानी

hospital
Share Post

PATNA : बिहार में कोरोना के नए मामले दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे है. बिहार सरकार ने इस बार सरकारी अस्पतालों के साथ-साथ निजी अस्पतालों (Private Hospital) को भी केंद्र बनाया है. सरकार ने कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए निजी अस्पतालों की दर और निजी एंबुलेंसों की दर तय कर दी है. ताकि पिछली बार की तरह इस बार कोई प्राइवेट हॉस्पिटल अपने मनमाना तरीके से पैसे ना ले सकें.

स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने शनिवार को पटना में प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि कोरोना की पिछली लहर की तर्ज पर इस बार पहले ही विभाग ने निजी एंबुलेंसों की दर व निजी अस्पतालों में इलाज की दर तय कर दी है, ताकि निजी अस्पताल मनमानी नहीं कर सकें और मरीजों को परेशानी न हो. विभाग के अनुसार सरकार ने सूबे के सभी शहरों को ए, बी और सी श्रेणी में बांटकर दर तय की है.

राजधानी पटना ए श्रेणी में है. जबकि मुजफ्फरपुर, भागलपुर, गया, दरभंगा और पूर्णिया बी श्रेणी में हैं. इनके अलावा बाकी सभी जिले सी श्रेणी में हैं. इस संबंध में शनिवार को सरकार ने सूबे के सभी सिविल सर्जन को पत्र जारी कर जानकारी कर दिया है. इस बार निजी अस्पतालों में कोरोना मरीज के भर्ती होने से लेकर वेंटिलेटर लगने तक पूरे इलाज पर कितना खर्च लिया जाएगा, सभी की दर तय कर दी गई है.

वहीं इस बार अस्पताल की जांच के बाद ही अनुमति दी जाएगी. क्योंकि पिछली बार दस निजी अस्पतालों को विभाग की तरफ से कोरोना इलाज की अनुमति दी गई थी. कोरोना की दूसरी लहर में निजी अस्पतालों में मरीजों से मनमानी राशि वसूल की गई. अस्पतालों ने वेंटिलेटर का खर्च प्रतिदिन पांच हजार रुपये वसूला था. इसके अलावा आईसीयू में भर्ती मरीजों से 3500 से चार हजार रुपये वसूला करते थे.

वहीं अब आयुष्मान भारत योजना से निबंधित जिले के 10 निजी अस्पतालों में भी कोरोना संक्रमितों का इलाज किया जायेगा. इसके तहत भी कोरोना इलाज के लिए राशि तय कर दी गई है. आयुष्मान भारत योजना के जिला समन्वयक विद्या सागर ने बताया कि बिना वेंटिलेटर की आईसीयू के लिए 7800 रुपये प्रति मरीज अस्पतालों को दिए जायेंगे. वेंटिलेटर के साथ आईसीयू का खर्च प्रति मरीज नौ हजार रुपये तय किया गया है. जनरल वार्ड का खर्च आठ सौ रुपये तय हुआ है. कोविड जांच का खर्च 600 रुपये तय किया कर दिया गया है.

पटना-
एनएबीएच एक्रिडेटेड अस्पतालों में आइसोलेशन बेड, सपोर्ट केयर और ऑक्सीजन- 10 हजार
बिना वेंटिलेटर की आईसीयू- 15 हजार
वेंटिलेटर के साथ आईसीयू- 18 हजार
नॉन एनएबीएच एक्रिडेटेड अस्पतालों में आइसोलेशन बेड, सपोर्ट केयर और ऑक्सीजन- 8 हजार
बिना वेंटिलेटर के आईसीयू- 13 हजार
वेंटिलेटर के साथ आईसीयू- 15 हजार

मुजफ्फरपुर, दरभंगा, भागलपुर, गया, पूर्णिया-
एनएबीएच एक्रिडेटेड अस्पतालों में आइसोलेशन बेड, सपोर्ट केयर और ऑक्सीजन- 8 हजार
बिना वेंटिलेटर की आईसीयू- 12 हजार
वेंटिलेटर के साथ आईसीयू- 14 हजार 4 सौ
नॉन एनएबीएच एक्रिडेटेड अस्पतालों में आइसोलेशन बेड, सपोर्ट केयर और ऑक्सीजन-6 हजार 4 सौ
बिना वेंटिलेटर की आईसीयू- 10 हजार 4 सौ
वेंटिलेटर के साथ आईसीयू- 12 हजार

बाकी जिलों में कितना लगेगा खर्च
एनएबीएच एक्रिडेटेड अस्पतालों में आइसोलेशन बेड, सपोर्ट केयर और ऑक्सीजन- 6 हजार
बिना वेंटिलेटर की आईसीयू- 9 हजार
वेंटिलेटर के साथ आईसीयू- 10 हजार 8 सौ
नॉन एनएबीएच एक्रिडेटेड अस्पतालों में आइसोलेशन बेड, सपोर्ट केयर और ऑक्सीजन- 4 हजार 8 सौ
बिना वेंटिलेटर की आईसीयू- 7 हजार 8 सौ
वेंटिलेटर के साथ आईसीयू- 9 हजार

Private एंबुलेंस की दर
वाहन के प्रकार 50 किमी आने-जाने सहित दर 50 किमी से अधिक आने-जाने के लिए
छोटी कार (सामान्य) 1500 18 रुपये प्रति किमी
छोटी कार (एसी) 1700 18 रुपये प्रति किमी
बोलेरो/सूमो (सामान्य) 1800 18 रुपये प्रति किमी
बोलेरो/सूमो (एसी) 2100 18 रुपये प्रति किमी
मैक्सी/सिटीराइड
विगर/ टैंपों/ ट्रेवलर
एवं समकक्षीय (14-22 सीट) 2500 25 रुपये प्रति किमी
जाइलो/स्कार्पियो/ क्वालिस
टवेरा (एसी) 2500 25 रुपये प्रति किम

Latest News

To Top