फुल वॉल्यूम 360°

बिहार में कल से बैन रहेगा Single Use Plastic, पकड़े जाने पर होगी कार्रवाई

plastic-ban
Share Post

PATNA : बिहार में 15 दिसंबर यानी कल से एकल उपयोग वाले प्लास्टिक (Single Use Plastic) के इस्तेमाल पर रोक लग जाएगी. इसके बाद राज्य में SUP की बिक्री, परिवहन और उत्पादन पर दंडात्मक कार्रवाई तक हो सकती है. फिलहाल अभी इसका विकल्प तैयार नहीं किया गया है. क्योंकि बायो डिग्रेडेबल प्लास्टिक (Biodegradable Plastic) का उत्पाद अभी सूबे में नहीं हो रहा है.

बायो डिग्रेडेबल प्लास्टिक का उत्पादन मई 2022 से शुरू होने की संभावना है. इसके लिए राज्य के प्लास्टिक उत्पादकों ने बायो डिग्रेडेबल दाना को सीपेट चेन्नई में टेस्टिंग के लिए भेज दिया है, जिसमें छह से सात महीना का समय लग सकता है. ऐसे में प्रतिबंध लगने के बाद प्रदेश के लोगों को ज्यादा जेब ढीली करनी पड़ेगी. बिहार प्लास्टिक इंडस्ट्री एसोसिएशन के प्रेम कुमार के मुताबिक राज्य में बाहर से आने वाला बायोडिग्रेडेबल प्लास्टिक के लिए लोगों को छह से सात गुना ज्यादा रकम देना पड़ेगा.

उन्होंने बताया कि 25 पैसा के प्लास्टिक बैग के लिए अब लोगों को डेढ़ रुपये तक चुकाना पड़ सकता है. वहीं राज्य में प्रतिदिन 60 टन से ज्यादा एकल उपयोग वाले प्लास्टिक का उत्पादन राज्य में होता है. राज्य में लगभग 20 बड़ी उत्पादन इकाइयां हैं, जो निबंधित है. इसके अलावा बड़ी संख्या में छोटी-छोटी सैकड़ों उत्पादन इकाइयां है. प्लास्टिक इंडस्ट्री में लगभग सौ करोड़ रुपये की पूंजी लगी हुई है.

इसमें बैंकों द्वारा भी कई इकाइयों को कर्ज दिया गया है. बीपीआईए के प्रेम का कहना है कि सिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगने से इस धंधे में लगे उद्यमियों की पूंजी टूट जाएगी और कई उद्यमी कर्ज में फंस जायेंगे. वहीं कैट के बिहार चेयरमैन कमल नोपानी ने एकल उपयोग वाले प्लास्टिक पर लगने वाले प्रतिबंध की समय सीमा बढ़ाने की मांग की है.

उन्होंने आग्रह किया है कि पूरे देश में 1 जुलाई 2022 से एकल उपयोग वाले प्लास्टिक पर प्रतिबंध लागू किया जा रहा है तो राज्य में भी इस प्रतिबंध को देश के साथ ही लागू किया जाए. प्लास्टिक उत्पादक व्यापारियों ने बीते 26 अक्टूबर को वन, पर्यावरण व जलवायु परिवर्तन विभाग के प्रधान सचिव से मिलकर उद्यमियों ने अपनी समस्याओं को रखा है.

Latest News

To Top