फुल वॉल्यूम 360°

Bihar में एक और बाघिन की मौत, दो महीने में दूसरे की गई जान

tigress
Share Post

BAGHA : बिहार (Bihar) के इकलौते वाल्मीकि टाइगर रिज़र्व (VTR) में फिर एक बाघिन की संदिग्ध परिस्थिति में मौत हो गई. बाघिन की मौत के बाद इलाकों में सनसनी फैल गई है. महज दो महीनों में दो बाघों की मौत हुई है. दो बाघों की मौत ने वन विभाग को सकते में डाल दिया है. बताया जा रहा है कि मंगुरहा वन क्षेत्र के मानपुर जंगल में चकरसन गांव के पास एक बाघिन का शव बरामद किया गया है.

मौत की सूचना मिलने के बाद वाल्मीकि टाइगर रिज़र्व के निदेशक सह मुख्य वन संरक्षक हेमकांत राय अपनी पूरी टीम के साथ मौके पर पहुंचे और शव को सुरक्षित पाए जाने की जानकारी दी. उन्होंने बताया कि दो दिन पहले बाघिन की मौत की संभावना है. मृत बाघिन के शरीर पर कहीं चोट के निशान नहीं है. वहीं इसकी उम्र करीब 10 साल बताई जा रही है. हेमकांत राय ने बताया कि बाघिन इन दस सालों में दो बार बच्चा जन्मा चुकी है.

उन्होंने बाघिन के सभी पार्ट्स सुरक्षित होने का दावा करते हुए बाघिन की मौत कि सूचना एनटीसीए दिल्ली और रीजनल ऑफिस गुवहाटी को भी दे दी है. मिली जानकारी के मुताबिक, गांव के किसानों ने जंगल में शव को देखा, वनरक्षी और गांव वालों ने इसकी सूचना पुलिस और वन विभाग के अधिकारियों को दी. मृत बाघिन के शव पड़े होने की जानकारी मानपुर पुलिस और वन विभाग को भी मिली.

सूचना मिलते ही तत्काल रेंजर सुनील पाठक और मानपुर थानाध्यक्ष विकास तिवारी के अलावा वन विभाग के अधिकारियों का काफिला मौके पर पहुंचा. बिहार के इकलौते वाल्मीकि टाइगर रिज़र्व के मुख्य वन संरक्षक हेमकांत राय ने पहले नजरिये में इसके स्वाभाविक औऱ कुदरती मौत होने की जानकारी दी और रविवार को उसके पोस्टमार्टम में वेसरा रिपोर्ट रिज़र्व कर देहरादून लैब भेजने की बात कही है.

बता दें कि देश भर में बिहार के इकलौते वाल्मीकी टाईगर रिज़र्व में बाघों के रख रखाव, अधिवास और हैबिटेट के कारण बेहतर प्रशासन और अच्छे प्रबन्धन में इनकी संख्या 50 के पार किये जाने की संभावना है. लेकिन दो महीनों में दो बाघों की मौत के बाद व्यवस्था पर सवाल खड़े हो रहे हैं.

Latest News

To Top