फुल वॉल्यूम 360°

Bihar के लिए खुशखबरी, अररिया-गलगलिया-सुपौल रेल लाइन पर खर्च होंगे 500 करोड़

Rail-Line
Share Post

PATNA : बिहार (Bihar) के लोगों के लिए एक बड़ी खुशखबरी है। पूर्वोत्तर बिहार के लिए लाइफलाइन मानी जाने वाली अररिया-गलगलिया-सुपौल रेल लाइन पर आगामी वित्तीय वर्ष 2022-23 में 500 करोड़ खर्च होगा। इस परियोजना के लिए जमीन अधिग्रहण का कार्य लगभग पूरा हो चुका है। थोड़ी सी जमीन का अधिग्रहण होना बाकी है, जिसके अधिग्रहण में तेजी लाने को कहा गया है। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने इस परियोजना की अद्यतन जानकारी सूबे के ऊर्जा, योजना एवं विकास मंत्री बिजेन्द्र प्रसाद यादव को पत्र लिखकर जानकारी दी है।

रेलवे की ओर से लिखे गए पत्र में कहा गया है कि सुपौल से अररिया की दूरी 92 किलोमीटर तो अररिया से गलगलिया के बीच 111 किलोमीटर है। अररिया से गलगलिया रेल लाइन परियोजना का काम शुरू कर दिया गया है। इस परियोजना की कुल लागत 2132 करोड़ है। अभी तक इस परियोजना पर 1030 करोड़ खर्च हो चुका है।

परियोजना के लिए 1692 एकड़ जमीन का अधिग्रहण की आवश्यकता थी। इसमें से अब तक 1632 एकड़ जमीन का अधिग्रहण हो चुका है। बाकी 60 एकड़ जमीन अधिग्रहण में तेजी लाने के लिए रेलवे ने राज्य सरकार को कहा है। वित्तीय वर्ष 2022-23 में इस परियोजना पर 400 करोड़ खर्च किए जाएंगे। जमीन अधिग्रहण वाले इलाकों में तेजी से काम शुरू कर दिया गया है।

वहीं अररिया से सुपौल के बीच भी काम शुरू कर दिया गया है। इस परियोजना पर 1605 करोड़ खर्च होना है। परियोजना में 705 हेक्टेयर भूमि अधिग्रहण होना है। इसमें से अब तक 156 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण किया जा चुका है। बाकी 549 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण होना बाकी है। अभी इस परियोजना में सुपौल से पीपरा के बीच काम शुरू कर दिया गया है।

ऊर्जा, योजना एवं विकास मंत्री बिजेन्द्र प्रसाद यादव ने कहा कि अररिया-गलगलिया-सुपौल रेल लाइन से गुवाहाटी से दिल्ली आने-जाने में सात घंटे की दूरी कम हो जाएगी। सामरिक दृष्टिकोण से भी इस रेल लाइन का महत्व है। इसके बनने से उत्तर बिहार के आधा दर्जन जिले को सीधा लाभ होगा।

Latest News

To Top