फुल वॉल्यूम 360°

Bihar को नई सौगात, भागलपुर से जमुई होकर शेखपुरा तक बनेगा एक और नया NH

road
Share Post

DESK: बिहार (Bihar) के भागलपुर (Bhagalpur) में लोगों को एक और एनएच (NH) की सौगात जल्द मिलेगी। फ्रेट कॉरिडोर के तर्ज पर जमुई होकर शेखपुरा (Shekhpura) तक एक और एनएच बनाया जाएगा। यह सड़क नवादा होते हुए हजारीबाग-रामगढ़-रांची तक जाएगी।

बरबीघा से पंजवारा तक एनएच 333ए नाम से वर्तमान सड़क के चौड़ीकरण की योजना इसी साल जमीन पर दिखने लगेगी। दो साल में काम पूरा होने के बाद पंजवारा के रास्ते नये पुल होकर छोटी-बड़ी गाड़ियां भागलपुर आ सकेगी। यह एनएच फोरलेन 198 किमी लंबा होगा। फोरलेन सड़क की चौड़ाई 30 मीटर होगी। जहां शहर के अंदर होकर गुजरेगी, वहां की चौड़ाई 12 मीटर होगी। जबकि जहां नाला रहेगा, वहां की चौड़ाई 15 मीटर होगी। इस परियोजना के लिए 2016 में सर्वे शुरू हुआ था।

पाकुड़ के काले पत्थर की मांग शेखपुरा से रांची तक: अभियंताओं ने बताया कि जमुई और बांका के रास्ते पंजवारा तक प्रस्तावित एनएच सड़क बायपास के रूप में काम करेगी। इसके लिए जमुई के सिकंदरा, खैरा, सोनो, झाझा के रास्ते बांका के बैसा रामपुर, भगवानपुर, चमरैली, गोविंदपुर, जोगडीहा, ककवारा, लसकारी, मजलिसपुर, रौनिया, तैलिया, बाराहाट, पथरा, परघरी, पंजवारा, कटोरिया, चानन आदि की सड़कें चौड़ी की जाएगी।

झिरबा गांव से जितारपुर होते हुए बांका-ढाकामोड़ एनएच 333ए पर रैनिया के समीप बायपास को मर्ज किया जाएगा। परियोजना पर करीब 2400 करोड़ रुपये के खर्च का अनुमान लगाया गया है। यह एनएच बनने के बाद बिहार-झारखंड बॉडर स्थित मिर्जाचौकी से स्टोन चिप्स, बोल्डर और भागलपुर-बांका से बालू के व्यवसाय को बढ़ावा मिल सकेगा। पाकुड़ के काले पत्थर की मांग शेखपुरा-नवादा से लेकर रांची तक है। अभी तक काला पत्थर ले जाने के लिए कोई ठोस विकल्प नहीं बन पाया था। अब उम्मीद है कि काला पत्थर झारखंड के कई जिलों में जा सकेगा।

चिह्नित जमीन का नोटिफिकेशन जारी
एनएच डिवीजन के कार्यपालक अभियंता (एक्सईएन) अरविंद कुमार सिंह ने बताया कि बांका जिलांतर्गत एनएच 333ए के 117.150 किमी से 190 किमी तक के निर्माण के लिए जमीन अधिग्रहण का नोटिफिकेशन निकाला गया है। परियोजना के लिए 158.3168 हैक्टेयर जमीन चिह्नित की गई है। इसमें निजी, सरकारी व गैरमजरूआ किस्म की जमीनें हैं। नोटिफिकेशन जारी होने के 21 दिनों के अंदर आपत्ति आदि की मांग की गई है। इसके बाद संबंधित जिला प्रशासन द्वारा भू-अर्जन की कार्रवाई की जा सकेगी

Latest News

To Top