फुल वॉल्यूम 360°

Bank Strike : बिहार में हुआ 1 लाख करोड़ का नुकसान, ATM सेवाएं भी ठप

bank-strike
Share Post

PATNA : बिहार में जारी बैंकों की दो दिवसीय हड़ताल (Bank Strike) आज भी जारी है. बैंक अधिकारी और कर्मी निजीकरण के विरोध में हड़ताल पर है. इसका असर बिहार की जनता और रोजमर्रा की जिंदगी पर भी पड़ रहा है. हड़ताल की वजह से बाजार को नुकसान, ग्राहकों को परेशानी तो हो ही रही है, साथ ही ATM भी साथ छोड़ रहे हैं. जिसका नतीजा यह है कि अभी बाजार में कहीं भी कैश मौजूद नहीं है. मिली जानकारी के मुताबिक, हड़ताल की वजह से एटीएम में कैश भी नहीं डाला गया है.

दरअसल, यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन के साथ बैंक कर्मी दो दिन की हड़ताल पर हैं. 16 दिसंबर को यह हड़ताल शुरू हुई है. इसी के साथ लोगों को परेशानी का सामना भी करना पड़ा. हड़ताल के कारण सिर्फ कुछ जिलों में ही 80 करोड़ से अधिक रुपये का व्यवसाय प्रतिदिन प्रभावित होने का अनुमान है. आंकड़ों की मानें तो इस दो दिवसीय हड़ताल से बिहार में करीब एक लाख करोड़ से ज्यादा का बैंकिंग कारोबार प्रभावित रहा.

राज्यभर में बैंक कर्मचारियों ने हड़ताल पर रहकर ब्रांच के बाहर निजीकरण विरोधी बैनर लगाकर नारेबाजी और धरना-प्रदर्शन किया. पटना में भी इस हड़ताल का व्यापक असर देखने को मिला. सरकारी बैंकों में तो कामकाज पूरी तरह ठप रहा. जबकि हड़ताल और विरोध के चलते निजी बैंकों का भी कारोबार प्रभावित हुआ.

आंदोलित कर्मचारियों ने कई जगह विरोध जुलूस भी निकाला. कुछ जगह आंदोलनकारियों द्वारा एटीएम भी बंद करा दिए जाने के चलते लोगों को दिक्कत का सामना करना पड़ा. हड़ताल के समय 5,500 एटीएम बंद भी बंद हैं क्योंकि कोई भी बैंक 16 और 17 दिसंबर को एटीएम में कैश नहीं डाल रहा है.

Latest News

To Top