ट्रेंड टॉक लाइफ स्टाइल

कचरे को कला में बदलने का अनूठा सेट बना ये पार्क

Kolkata-Tyre-Park

कला का एक अनूठा सेट कोलकाता में आने के लिए बिलकुल तैयार है। कचरे को कला में बदलने के उद्देश्य से भारत के पहले ‘टायर पार्क’ को पश्चिम बंगाल राज्य परिवहन विभाग द्वारा शहर में Esplanade Bus Depot में कलात्मक आकर्षण प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है। परिवहन निगम कर्मचारियों द्वारा वाहन के टायरों सहित विभिन्न छोड़े गए और बेकार सामानों को नया जीवन प्रदान हुआ है।

यह टायर पार्क जो की Esplanade Bus Depot में आएगा, वहां एक छोटा कैफ़े होगा जहाँ लोग टायर से बने शिल्प कौशल के साथ बैठ सकते हैं, आराम कर सकते हैं और आनंद ले सकते हैं। शहर के बीचों बीच Esplanade Bus Depot, आमतौर पर बसों के शोर से गुलज़ार रहता है। पश्चिम बंगाल परिवहन निगम के एक कर्मचारी ने कहा की “किसी भी स्क्रैप सामग्री को अपशिष्ट के रूप में लेबल नहीं किया जा सकता है, इसे पुनः उपयोग किया जा सकता है और कला के रूप में परिवर्तित किया जा सकता है।”

बेकार टायर का डिस्पोजल न केवल अधिकारियों के लिए एक चुनौती है, बल्कि इसमें बहुत समय लगता है। इस तरह के बस डेपो में आमतौर पर टायर के ढेर हो जाते हैं और उचित निपटान की कमी के कारण, विशेष रूप से बारिश के दौरान, जर्म्स को संक्रमित करते हैं और यहाँ तक की बीमारी भी फैलते हैं। यह लोगों के आँखों में खटकता है। पश्चिम बंगाल परिवहन निगम कर्मचारियों ने हफ़्तों तक इस तरह के टायर और अन्य स्क्रैप सामग्री पर काम करना शुरू कर दिया और उन्हें आँखों के लिए सुखदायक और रंगीन संयोजन में परिवर्तित करने में सक्षम रहे।

पार्क के लिए कुर्सियों, मेज़, बेकार डिब्बे और इस तरह के कई दिलचस्प डेकोर्स बनाने के लिए कई छोड़े गए टायरों को काट दिया गया है। विषय को ध्यान में रखते हुए, कई टायरों को ट्राम, बसों, पीली टैक्सियों की छवियों के साथ चित्रित किया गया है। कई टायरों में शहर की कुछ प्रतीकात्मक संरचनाएं हैं, जिन पर हावड़ा ब्रिज और अन्य शिल्प शामिल हैं। टायर पार्क की उद्घाटन की तारीख जल्द हीं घोषित की जाएगी।