हेल्थ लाइफ स्टाइल

Yellow fungus : रंग बदल बदल के आ रहा है ये जानलेवा बीमारी, अब बना Yellow, White और Black दोनों से ज्यादा खतरनाक

yellow-fungus
Spread It

पहले कोरोना ने देश भर में महामारी फैलाई उसके बाद कोरोना की दूसरी लहर ने शवों को गंगा में बहाने पर मजबूर किया। उसके बाद सामने आया ब्लैक फंगस। कई राज्यों में तो ब्लैक फंगस को महामारी घोषित कर दिया गया है। फिर इसके बाद आया वाइट फंगस (White Fungus) जो ब्लैक फंगस (Black Fungus) से भी खतरनाक है। अभी वाइट फंगस के कुछ मामले देश के अलग-अलग राज्यों से आ ही रहे थे कि अब येलो फंगस (Yellow Fungus) ने एंट्री मार ली है।

जी हां ब्लैक फंगस और वाइफ फंगस के बाद येलो फंगस ने भी अपना पांव पसारना शुरू कर दिया है। NCR के गाजियाबाद से येलो फंगस का पहला मामला सामने आया है। डॉक्टर के मुताबिक यह येलो फंगस ब्लैक और वाइट फंगस से भी ज्यादा खतरनाक। इस फंगस के कारण व्यक्ति के शरीर के घाव काफी धीमी गति से भरते हैं और इसमें व्यक्ति की भूख धीरे-धीरे कम होती जाती है। शरीर में सुस्ती , कम भूख लगना , वजन कम होना यह सब इसके प्रमुख लक्षण है।

डॉक्टरों ने बताया यह फंगस अगल-बगल की गंदगी के कारण शरीर में फैलता है। गाजियाबाद के एक अस्पताल में इस फंगस का पहला मामला सामने आया है। येलो फंगस का पहला मामला सामने आने के बाद इसे डॉक्टरों ने बाकी दोनों फंगस से भी ज्यादा खतरनाक बताया है। मिली जानकारी के मुताबिक, उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में येलो फंगस का पहला मामला जिस व्यक्ति में पाया गया है वह कुछ दिन पहले ही कोरोना से ठीक होकर लौटा ही था। जैसे ही येलो फंगस की खबर सामने आई कि सोशल मीडिया पर #YellowFungus ट्रेंड करने लगा है और लोग इसके मीम्स भी शेयर करने लगे हैं।

यलो फंगस आंतरिक रूप से शुरू होता है। और यह जैसे जैसे बढ़ता है, बीमारी और घातक हो जाती है। जिस मरीज में या फंगस पाया गया उसके सिटी स्कैन में इस फंगस का पता नहीं चला। लेकिन जब डॉक्टरों ने उसका nasal endoskopi किया तो उसमें डॉक्टरों को इस येलो फंगस का पता चला।

इससे बचाव के लिए डॉक्टरों ने बताया कि अगर घर के अंदर ज्यादा नमी है तो मरीज के लिए यह घातक हो सकता है इसलिए इस पर ध्यान दें और घर को सूखा रखें क्योंकि ज्यादा नमी से बैक्टीरिया और फंगस बढ़ते है। डॉक्टर ने बताया कि घर की और आसपास की सफाई बहुत जरूरी है। साथ ही बासी खाना खाने से बचें।

बारिश का मौसम भी आने वाला है और ऐसे में हर समय जमीन को सुखा रखना संभव नहीं है। और गौरतलब है कि बाढ़ के आने के बाद गंदगी भी वैसी ही फैलेगी। तो आशा यही करते हैं कि सरकार जल्द से जल्द इस फंगस पर अपनी पकड़ बनाए और इसके संक्रमण को फैलने से रोके।

NCERT : कविता है खराब या हमारी सोंच में हैं गड़बड़ी!