लाइफ स्टाइल देश फुल वॉल्यूम 360° हेल्थ

बच्चों के लिए लॉन्च की गई Corona Testing Toy Van

corona testing toy van
Spread It

कोरोना की तीसरी लहर से पहले सभी राज्य आवश्यक तैयारी में जुट गए हैं। दिल्ली पुलिस ने भी बच्चों के कोविड टेस्ट के लिए अनोखी पहल की है। बच्चों की कोरोना जांच के लिए एक कोरोना टेस्टिंग टॉय वैन (Corona Testing Toy Van) को लॉन्च किया गया है।

बच्चों के लिए खासतौर पर किया गया तैयार टेस्टिंग वैन

राजधानी दिल्ली में कोरोना माहामारी की संभावित तीसरी लहर का बच्चों पर खतरा देखते हुए दिल्ली पुलिस ने बच्चों की कोरोना जांच के लिए एक कोरोना टेस्टिंग टॉय वैन को लॉन्च किया है। यह कोविड टेस्टिंग टॉय वैन स्टार इमेजिंग एंड पैथ लैब (Star imaging and path labs) की ओर से तैयार की गई है। जो कि दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में जाकर बच्चों की कोरोना जांच करेगी। इसमें सबसे ज्यादा ध्यान देने वाली बात यह है कि इसे बच्चों के हिसाब से तैयार किया गया है, जिससे कि बच्चे इस वैन में खुशी-खुशी बैठकर आराम से अपना कोविड-19 टेस्ट करवा सकें।

बच्चों की कोरोना सैंपल इकट्ठा करेगी वैन

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, मध्य जिला पुलिस की ओर से इस वैन को लॉन्च किया गया है, जिसको लेकर मध्य जिला की एडिशनल डीसीपी श्वेता सिंह चौहान (Sweta Singh Chauhan) ने बताया कि कोरोना की तीसरी लहर में बच्चों के लिए खतरे को देखते हुए इस टेस्टिंग वैन को तैयार किया गया है। यह दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में जाकर बच्चों की कोरोना टेस्टिंग सैंपल इकट्ठा करेगी।
पुलिस के अनुसार, इस तरीके की तीन वैन तैयार की गई हैं। जिसमें से एक वैन दिल्ली पुलिस मध्य जिला पुलिस को दी गई है। इस वैन को बच्चों के लिए खासतौर पर तैयार किया गया है। जिससे बच्चे आसानी से इस वैन में बैठकर बिना डरे अपना कोरोना टेस्ट करवा सकें।

अलग-अलग कार्टून से सजाया गया वैन

पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, छोटे बच्चे आसानी से टेस्ट करवाने के लिए नहीं मानते, ऐसे में इस वैन को अलग-अलग कार्टून कैरेक्टर के पोस्टर से सजाया गया है। वैन के अंदर बच्चों के लिए खिलौने रखे गए हैं और बच्चों को प्रोत्साहित करने के लिए टेस्ट कराने के बाद गिफ्ट भी दिया जा रहा है। इसके साथ ही वैन में मौजूद लैब टेक्नीशियन सोनल त्यागी ने बताया कि एक साल से अधिक उम्र के बच्चों का आरटी-पीसीआर एंटीजन, एंटीबॉडी टेस्ट किए जाने की सुविधा है। इसके लिए स्वैब के जरिए बच्चों के नाक और मुंह से सैंपल लिया जा रहा है।