बिहारनामा

Patna Metro के निर्माण में रफ्तार, अक्टूबर 2024 से राजधानी में दौड़ने लगेगी मेट्रो

Patna-Metro
Share Post

DESK: राजधानी पटना में जल्द ही मेट्रो ट्रेन (Patna Metro) दौड़ने वाली है. इसके निर्माण में पहले से तेजी आई है. निर्माण कार्य को और भी ज्यादा रफ़्तार देने के लिए नीतीश सरकार ने अनुपूरक बजट में बड़ी राशि का प्रावधान किया है, जिसे विधानसभा के शीतकालीन सत्र के पहले दिन बिहार सरकार ने सदन में पेश किया. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पटना मेट्रो के अत्तिरिक्त बजट में 1000 करोड़ का राशि जल्द ही जारी करेंगे.

इधर पटना जिला प्रशासन ने जमीन अधिग्रहण को लेकर नोटिफिकेशन जारी कर दिया है. जीरो माइल और पाटलिपुत्र अंतरराज्यीय बस टर्मिनल (ISBT) के बीच 76 एकड़ जमीन के अधिग्रहण की प्रक्रिया चल रही है. पटना मेट्रो रेल कारपोरेशन ने जिला प्रशासन को शहर में 12 मेट्रो स्टेशन के लिए अलग से प्रस्ताव दिया है. सभी स्टेशन का हिस्सा सरकारी के साथ निजी ज़मन में है. इस जमीन की नापी चल रहीं है. इसके लिए अलग से राशि खर्च की जाएगी. इसके साथ सरकरी विभागों से जमीन बदली कर मेट्रो को दी जाएगी. इसके लिए सरकार के निर्देश द्वारा प्रावधान किया जाएगा.

जानकारी के मुताबिक, रानीपुर और पहाड़ी इलाके में आईएसबीटी मेट्रो स्टेशन और पटना मेट्रो रेल डिपो बनाने के लिए जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया फरवरी 2022 तक पूरी कर ली जाएगी. प्रदेश सरकार ने डिपो और आईएसबीटी मेट्रो स्टेशन के लिए जमीन अधिग्रहण करेंगे. जमीन मालिक को रेट के आधार पर मुआवजा दिया जाएगा.

शहरी विकास और आवास विभाग (यूडीएचडी) के अधिकारियों ने कहा कि पाटलिपुत्र आईएसबीटी के पास भूमि अधिग्रहण के लिए सरकार ने कदम उठाना शुरू कर दिया है. पटना मेट्रो रेल नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली सकार की एक महत्वाकांक्षी परियोजना है. केंद्र और राज्य इस परियोजना की लागत का 20-20 फीसदी खर्च उठाएंगे. 60 फीसदी राशि JICA (Japan International Corporation Agency) से लोन के रूप में ली जाएगी.

PMRC के एक अधिकारी ने कहा कि जेआईसीए से कर्ज मिलने के बाद भूमिगत स्टेशनों और नेटवर्क पर काम शुरू हो जाएगा. शुरुआत में सुरंगों का निर्माण, राजेंद्र नगर में भूमिगत रैंप और राजेंद्र नगर से आकाशवाणी (जो कॉरिडोर II का एक हिस्सा है) तक छह भूमिगत स्टेशनों का निर्माण शुरू होगा. मलही पकरी से आईएसबीटी तक कॉरिडोर II के 6.1 किमी ऊंचे खंड पर पहले से ही काम चल रहा है. इसमें पांच स्टेशन शामिल हैं, मलाही पकड़ी, खेमनीचक, भूतनाथ रोड, जीरो माइल और आईएसबीटी शामिल है. इस खंड को प्राथमिकता गलियारे के रूप में भी जाना जाता है.

Latest News

To Top