बिहारनामा

लड़कियों को नंबर बांटता था बिहार का ये IPS अधिकारी, विधायक की बेटी से रचाई शादी

IPS-Shivdeep-Lande-Shadi
Share Post

PATNA : किसी भी शासन और प्रशासन को चलाने में आईएएस और आईपीएस अफसरों का काफी अहम रोल होता है. आज हम बिहार (Bihar) से जुड़े एक ऐसे आईपीएस अधिकारी की कहानी बताने जा रहे हैं, जो इनदिनों काफी चर्चा में हैं. हम बात कर रहे हैं सिंघम के नाम से बिहार में चर्चित आईपीएस अधिकारी शिवदीप लांडे की, जिनकी बिहार में वापसी होने जा रही है, जिन्होंने अलग अंदाज में काम करने के तरीके से बिहार के लोगों के दिल में अपनी जगह बना ली. आज हम उनके व्यक्तिगत जीवन से जुड़े कुछ बातों की चर्चा करेंगे.

आपको बता दें कि 2006 बैच के IPS अफसर शिवदीप लांडे महाराष्ट्र के अकोला जिले के परसा गांव के रहने वाले हैं. वह दो भाइयों में से बड़े हैं. इन्होंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद मुंबई में रहकर UPSC की तैयारी की. सफलता मिलने के बाद इन्होंने भारतीय राजस्व विभाग में नौकरी की. इसी बीच इनका चयन यूपीएससी में भी हो गया. और इन्होंने बिहार कैडर को चुना.

बिहार में बहुत कम ही लोग ये जानते हैं कि आईपीएस शिवदीप की शादी महाराष्ट्र के मंत्री रहे विधायक विजय शिवतारे की बेटी ममता से हुई है. एक दोस्त के घर पर आयोजित पार्टी में शिवदीप और ममता की पहली मुलाकात हुई थी. यह मुलाकात आगे चलकर पहले प्यार में बदल गई. इसके बाद दोनों ने 2 फरवरी 2014 को शादी कर ली. दोनों की एक बेटी भी है, जिसका नाम अरहा है.

शिवदीप लांडे की पत्नी ममता ने मुंबई में ही पढ़ाई की है. ममता पेशे से डॉक्टर हैं और वो कोरोना काल में कोरोना वारियर्स में रूप में उभरी थी. यही वजह थी रही की वो कुछ दिन कोरोना पॉजिटिव भी रहीं. बिहार कैडर के अधिकारी लांडे की पहली नियुक्ति मुंगेर जिले के नक्सल प्रभवित जमालपुर में हुई थी. पटना में अपने कार्यकाल के दौरान अपनी अनोखी कार्यशैली की वजह से शिवदीप पूरे देश में मशहूर हो गए. लेकिन अपराधियों की आंखों में खटकने लगे. इसलिए उनका बार-बार ट्रांसफर किया जाता रहा.

बताया जाता है कि शिवदीप लांडे अपनी ड्यूटी पर जितना सख्त नजर आते हैं. वह उतने ही विनम्र हैं. वह अपनी सैलरी का 60 फीसदी हिस्सा एनजीओ को दान कर देते हैं. इसके अलावा कई सामाजिक कार्यों में भी वह सहयोग करते हैं. उन्होंने कई गरीब लड़कियों की सामूहिक शादी भी करवाई है. लड़कियों की सुरक्षा के लिए हमेशा से काम किया है.

एक समय ऐसा था, जब शिवदीप लांडे को रोज-रोज शादी के ऑफर आते थे. दरअसल ये घटना बिहार (Bihar) में ही उनके साथ हो रही थी. जब वे पटना में पोस्टेड थे. ऐसा कहा जाता है कि पटना में शिवदीप की पोस्टिंग के दौरान लड़कियां काफी सुरक्षित महसूस करती थी. इस अधिकारी ने लड़कियों को अपना पर्सन नंबर तक दे दिया था कि अगर किसी को कहीं भी कभी भी कोई दिक्कत हो तो डिरेक्ट उन्हें फोन करें. इस तरह कोई भी लड़की कभी भी किसी मुसीबत में होती तो शिवदीप सर को फोन कर खुद को सुरक्षित महसूस करती. उस समय तो पटना के सभी कॉलेजों की छात्राओं के मोबाइल में उनका नंबर सेव रहता था.

एक बार शहर के बीचोबीच 3 शराबियों ने एक युवती के साथ छेड़खानी और जबर्दस्ती करना शुरू किया. मुसीबत में फंसी लड़की ने मोबाइल पर शिवदीप से संपर्क किया. हिंदी फिल्म की तरह मिनटों में वह दनादन घटना स्थल पहुंच गए. लड़की को बचा लिया गया, पर बदमाश भाग निकले. हालांकि शिवदीप की टीम ने हफ्ते भर में उन्हें भी ढूंढ निकाला. तब से ही वह काफी प्रसिद्ध हो गए. हालांकि चर्चा ये भी रही है कि शिवदीप लांडे को बार-बार शादी के भी ऑफर आते थे. सात साल पहले दैनिक भास्कर में छपी एक खबर के मुताबिक इस अधिकारी को रोज शादी के ऑफर आते थे. हालांकि इस तथ्य को लेकर न तो कोई भी खंडन और न ही आधिकारिक जानकारी है.

Latest News

To Top