फुल वॉल्यूम कॉर्नर संडे वाइब्स

Sandhya Gaura : किसी फिल्म से कम नहीं है अंडर-19 क्रिकेट टीम में सेलेक्ट होने वाली संध्या की कहानी

sandhya gaura
Spread It

एक वो दौर था जब लड़कियों को सिमित क्षेत्र में काम करने की इजाज़त होती थी, लड़कियों के लिए क्षेत्र निर्धारित किये जाते थे की वो किस एरिया में अपना कैरियर बना सकती हैं यहाँ तक की बहुत सी लड़कियों को तो कैरियर बनाने का मौका भी नहीं मिलता था और एक आज का दौर है जहाँ हर क्षेत्र में लड़कियों का बोल बाला है। चाहे खेल की दुनिया में नाम कमाने वाली अवनि लखेरा, पीवी सिंधु, लवलीना, मिताली राज जैसी खिलाडी हों या चंदा कोचर, अवनि चतुर्वेदी जैसी महिलाएं जो अलग अलग क्षेत्र में सफलता के परचम लहरा रही हैं। संडे वाइब्स में हम आप तक ले कर आये हैं एक 14 साल की लड़की की कहानी जिसने तमाम मुश्किलों को पार कर के अपनी राह खुद बनायीं है और स्टेट टीम के अंडर-19 टीम में सेलेक्ट हुई है। उनका अब तक का सफर किसी फ़िल्मी कहानी से कम नहीं रहा है।

नागौर जिले के छोटे से गांव तामड़ोली की 14 साल की संध्या गौरा (Sandhya Gaura) का बीसीसीआई (BCCI) के अंडर-19 विमन वनडे टूर्नामेंट में चयन हुआ है। संध्या हैदराबाद टीम के लिए खेलेगी। 3 सितंबर को हैदराबाद स्थित राजीव गांधी इंटरनेशनल स्टेडियम में हुए ट्रायल में संध्या का सलेक्शन बतौर ओपनर बल्लेबाज किया गया है।
संध्या अपने जिले की पहली बेटी है, जो अब हैदराबाद स्टेट टीम के लिए अंडर-19 क्रिकेट खेलेंगी। उनका पहला मैच राजकोट में 28 सितंबर से होना है। संध्या का यहां तक का सफर काफी उतार चढ़ाव से भरा रहा है।
संध्या नागौर जिले के छोटे से गांव तामड़ोली से हैं। यहां उनके घर के पास ही गोचर जमीन पर लड़के क्रिकेट खेलते थे। संध्या जब 4 साल की थीं तब वो अक्सर यहां होने वाले मैच देखने जाती थीं। इसके बाद करीब 7 साल पहले आर्थिक मजबूरियों के चलते संध्या को अपने पापा हनुमान गौरा (Hanuman Gaura) के साथ परिवार सहित हैदराबाद आना पड़ा था।

संध्या (Sandhya Gaura) के पिता हैदराबाद में टेम्पो चलाकर अपना और परिवार का गुजारा करते हैं। यहां आने के बाद संध्या अपने भाई के साथ तो कभी पापा के साथ टेम्पो में बैठकर घूमने जाती तो रास्ते में राजीव गांधी इंटरनेशनल स्टेडियम और स्टेट क्रिकेट एकेडमी आती थी। एक दो बार वो जिद करके यहां पिता के साथ IPL मैच भी देखने गई। जब पहली बार संध्या यहां IPL मैच देखने गयी तभी उन्होंने यह ठान लिया था कि अब वो ऐसे ग्राउंड में ही क्रिकेट खेलेगी।

शुरुआत में संध्या ने हैदराबाद में जेडीमेटला क्षेत्र के मोहल्ले में क्रिकेट खेलना शुरू किया। यहां खेलते-खेलते स्कूल टीम में सलेक्शन हो गया। स्कूल टीम में उनका टैलेंट देखकर कोच ने बेहतर प्रैक्टिस करने और एकेडमी जॉइन करने की सलाह दी, लेकिन पिता की आर्थिक स्थिति से वाकिफ संध्या ने इन बातों पर ध्यान नहीं दिया। सब कुछ ऐसे ही टाइम पास की तरह चलता रहा। इसके बाद 6 साल पहले हैदराबाद में हुए इंटर स्कूल टूर्नामेंट के फाइनल में 51 गेंदों पर संध्या ने धुआंधार शतक ज्यादा जिसने उन्हें पूरे शहर में पहचान दिला दी।

संध्या (Sandhya Gaura) के क्रिकेट टैलेंट की जानकारी धीरे-धीरे उनके पिता हनुमान गौरा के पास पहुंची। स्कूल प्रिंसिपल, कोच और कई मिलने वाले लोगों ने उनसे संध्या को क्रिकेट एकेडमी जॉइन कराने की सलाह दी। इसके बाद हनुमान ने भी अपनी बेटी संध्या के सपने को पूरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। उन्होंने अपनी थोड़ी बहुत जो जमा पूंजी थी सब संध्या की ट्रेनिंग के लिए खर्च कर दिए और उसे हैदराबाद की सबसे बढ़िया डॉन बॉस्को क्रिकेट एकेडमी में दिन में 3 प्रैक्टिस सेशन के लिए दाखिला दिला दिया।

यहां कोच बेंजामिन थॉमस की देखरेख में संध्या ने अपनी फिटनेस के साथ-साथ क्रिकेट स्किल पर काम करना शुरू किया। वो रोजाना सुबह साढ़े पांच से 9 बजे, फिर दोबारा साढ़े दस बजे से दोपहर 2 बजे तक और दोपहर 3 बजे से रात 8 बजे तक जमकर प्रैक्टिस करती। कड़ी मेहनत और लगातार प्रैक्टिस की बदौलत डेढ़ साल पहले संध्या का हैदराबाद की अंडर 16 स्टेट टीम में सलेक्शन हो गया, लेकिन कोरोना महामारी के चलते ज्यादा मैच खेलने का मौका नहीं मिल पाया।

स्थिति बेहतर होने के बाद अब वापस से क्रिकेट मैच शुरू हो गए हैं। संध्या का 3 सितंबर को हैदराबाद स्थित राजीव गांधी इंटरनेशनल स्टेडियम (Rajiv Gandhi International Stadium) में हुए ट्रायल में हैदराबाद स्टेट की अंडर 19 टीम में बतौर ओपनर सिलेक्शन हो गया है। फिलहाल संध्या अपनी टीम के साथ गुजरात के राजकोट शहर में है, जहां प्रैक्टिस चल रही है। 28 सितंबर को वो राजकोट में ही हैदराबाद स्टेट की अंडर 19 टीम से बीसीसीआई के नेशनल वनडे टूर्नामेंट में अपना पहला मैच खेलेंगी।
संध्या (Sandhya Gaura) की मेहनत और लगन साथ की उनके पिता के साथ और बलिदान ने संध्या के कैरियर को एक सही रुख दे दिया है। वो दिन दूर नहीं है जब संध्या भारत की ओर से अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेलते नजर आएँगी।