फुल वॉल्यूम कॉर्नर बिहारनामा

पर्यटकों के लिए खुल गया राजगीर नेचर सफ़ारी, जानें इसकी खासियत और टिकट शुल्क

nature-safari-rajgir
Spread It

राजगीर में करीब 19 करोड़ की लागत से बना नेचर सफारी के खुलने का लोगों को काफी दिनों से इंतज़ार था। और अब ये इंतज़ार खत्म हो गया है, क्यूंकि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा 26 मार्च को राजगीर नेचर सफारी का उद्घाटन किया गया।

अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन केंद्र राजगीर में नवनिर्मित आठ सीट वाले रोपवे और नेचर सफारी का उद्घाटन कर दिया गया है। ये नया रोपवे चार मिनट में सफर तय करेगा जबकि पुराना रोपवे सात मिनट में सफर तय करता है।

पिछले साल 19 दिसम्बर को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने नेचर सफारी का अवलोकन किया था। इस क्रम में उन्होंने ग्लास स्काई वॉक ब्रिज (Glass Sky Walk Bridge) सहित अन्य इवेंट का जायजा लिया था। साथ हीं वन प्रमंडल नालन्दा सहित निर्माण एजेंसी को इसे फौरन कंप्लीट करने का निर्देश दिया था।

ग्लास स्काई वॉक ब्रिज, सस्पैंशन ब्रिज(Suspension bridge), अराउंड 800 मीटर का जिप लाईन, 500 मीटर का साइक्लिग जिप लाइन, तीरंदाजी, शूटिग रेंज सहित अनेक रोमांचक स्पॉट लगभग तैयार हो चुके हैं। वहीं, इस सफारी के कैंप एरिया में ट्री हट, वूडेन हट, बांवू हट, मड हट हाउस आदि बनने से यह बेहद खूबसूरत हो गया है। जिससे पर्यटक इसमें पेईंग गेस्ट बनकर कुछ दिन रह सकते हैं। साथ हीं इसमें एक छोटा सा बटरफ्लाई पार्क भी बनाया गया है।

यह रोपवे एक घंटे मे 800 लोगों को सफर करवाएगा। फिलहाल नया और पुराना दोनों रोपवे का परिचालन किया जाएगा। पुराने रोपवे का टिकट 80 रुपये रहेंगे। लेकिन आने वाले दिनों में नए रोपवे का टिकट दर 100 से 120 रुपये किया जा सकता है।

इस योजना के तहत राजगीर में 506 टमटम चालकों को निशुल्क ई-रिक्शा उपलब्ध कराया गया है।

नेचर सफारी के मेन ऐंट्रेन्स द्वार को भगवान बुद्ध के शिखा मुकुट के रूप में बनाया गया है। और इसके साथ भगवान बुद्ध के जेठियन से राजगीर आने तक की झांकियां भी लगाई गई है। नेचर सफारी का निर्माण भी जेठियन और राजगीर मार्ग के बीच किया गया है।

राजा बिबिसार ने जेठियन से भगवान बुद्ध को राजगीर लाए थे और अपना रोयाल गार्डेन वेणुवन भेंट स्वरूप दिया था। इसीलिए नेचर सफारी का मुख्य प्रवेश द्वार को भगवान बुद्ध के शिखा मुकुट का रूप दिया गया है। इस क्रम में नेचर सफारी को और भी नेचर लुक देने के लिए आदि मानव सह जन जाति की मूर्तियां सजाई गई है। जिसके द्वारा उनके जंगली जीवन यापन की झांकियां भी दिखाई गई है। वहीं जंगली जानवरों, अजगर व जीव जंतुओं के मूर्तियों की झांकियां भी जगह जगह पर लगाई गई है, जिससे देख लोग रोमांचित हो पायंगे।

नेचर सफारी में पर्यटकों के सुरक्षा के लिए इसमें थाना भवन तथा ओपी का भी निर्माण होना है। जिसके तहत किसी भी प्रकार के अपराधिक मामलों की कानूनी कार्रवाई किया जा सकेगा।

Add Comment

Click here to post a comment