पासबुक फुल वॉल्यूम कॉर्नर

ISMA : चालू सत्र में चीनी का उत्पादन 13% बढ़ा

sugar-factory
Spread It

देश में गन्ना का ज्यादा उत्पादन होने के कारण 2020-21 मार्केंटिंग ईयर में 15 जून तक चीनी का प्रोडक्शन 13% बढ़कर 306.65 लाख टन हो गया है। जैसा कि चीनी का मार्केटिंग ईयर अक्टूबर से सितंबर तक होता है। आपको बता दें इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (ISMA) के अनुसार देश में गन्ने की उच्च पैदावार की वजह से चीनी उत्पादन में यह बढ़ोतरी आई है। ISMA ने बताया कि पिछले साल अक्टूबर से लेकर इस साल 15 जून तक पिछले साल के मुकाबले चीनी उत्पादन 35.54 लाख टन ज्यादा हुआ है। बता दें कि पिछले साल इतने ही समय में चीनी का उत्पादन 271.11 लाख टन हुआ था। ISMA ने एक बयान में बताया है कि ‘‘देश भर के चीनी मिलों ने 1 अक्टूबर 2020 से 15 जून 2021 के बीच 306.65 लाख टन चीनी का प्रोडक्शन किया है। जो कि पिछले साल इसी दौरान उत्पादित चीनी के 35.54 लाख टन ज्यादा है।’’

https://www.indiansugar.com/NewsDetails.aspx?nid=49921

आपको बता दें वर्तमान समय में देश में केवल 5 चीनी मील चल रही है। जिसमें उत्तर प्रदेश में चीनी प्रोडक्शन ईयर 2020-21 में 15 जून तक चीनी का उत्पादन 110.61 लाख टन का हुआ है। जबकि पिछले साल इतने ही समय में चीनी का उत्पादन 126.30 लाख टन था। वहीं महाराष्ट्र में चीनी का उत्पादन 61.69 से बढ़कर 106.28 लाख टन हो गया है। और कर्नाटक में भी उत्पादन पहले के 33.80 लाख टन से बढ़कर 41.67 लाख टन हो गया है।

ISMA ने अपने बयान में कहा है कि सरकार ने चीनी के मार्केटिंग ईयर के लिए 60 लाख टन चीनी के Export की इजाजत दी थी। जिसमें से अब तक कंपनियों ने 58 लाख टन का अनुबंधन कर लिया है। आपको बता दें इस कॉन्ट्रैक्ट में से अब तक 45.74 लाख टन चीनी का Export हो चुका है। ISMA ने यह भी बताया कि जून 2021 में निर्यात की जाने वाली 5-6 लाख टन चीनी पाइपलाइन में है। साथ ही यह भी कहा कि मार्केटिंग ईयर 2020-21 में चीनी की मांग बढ़कर 260 लाख टन को पार कर सकती है। जबकि पिछले साल यहीं मांग 253 लाख टन की थी। उद्योग संगठन ने 70 लाख टन चीनी निर्यात का अनुमान लगाया है।