फुल वॉल्यूम कॉर्नर बिहारनामा महिला

‘Mahila Commando Bihar’ : बिहार के मुख्यमंत्री की सुरक्षा करेंगी महिलाएं

bihar first women commando
Spread It

बिहार की छवि अन्य राज्यों में पिछड़े राज्य के रूप में दिखती है। लेकिन सच मायने में बिहार देश के अन्य विकसित राज्यों से आगे है, तो कुछ के साथ कंधे से कन्धा मिलते चल रहा है। बिहार को IAS IPS का गढ़ भी कहा जाता है क्यूंकि बिहार से UPSC क्रैक करने वालों की संख्या अन्य राज्यों के मुकाबले अधिक होती है। इसी कड़ी में बिहार एक और सेक्टर में देश के अन्य राज्यों से खुद को आगे खड़ा कर चूका है। बिहार अब देश का एक ऐसा राज्य बन गया है जहां पर पहली महिला कमांडो की फौज तैयार की गई है।

बिहार देशभर में अपना गौरव बना भी रहा है और बढ़ा भी रहा है। बिहार, देश का पहला ऐसा राज्य बन गया है जहां देश की पहली महिला कमांडो तैयार हुई है। इन महिला सिपाहियों की ट्रेनिंग महाराष्ट्र (Maharashtra) के मुटखेड (Mutkhed) में CRPF के Central Training Center पर हो रही है। इन महिला कमांडोज़ (Mahila Commando) को आतंकियों से मुकाबला करने से लेकर VVIP सुरक्षा के लिए भी तैयार किया जा रहा है। साथ ही इन महिला कमांडोज़ को मुख्यमंत्री नितीश कुमार (CM Nitish Kumar) की सुरक्षा में तैनात Special Service Group में भी शामिल किया जायेगा। अब आप सोचिये, जो कमांडोज़ मुख्यमंत्री की सुरक्षा में तैनात की जायेंगी उनकी ट्रेनिंग कितनी कठिन होगी।

हाल ही में बिहार ने महिलाओं को लेकर एक और उपलब्धि हासिल की है। और वो है, पासिंग आउट परेड समाहरो में एक साथ 596 महिला दरोगा ने शपथ लिया। और ये पहली बार हुआ कि इतनी बड़ी संख्‍या में महिला पुलिस अधिकारी राज्‍य को मिली है। और इसके साथ ही अब तो सुप्रीम कोर्ट ने भी इजाजत दे दिया है कि देश की लड़किया NDA की परीक्षों में बैठ सकती हैं।

जिस तरह हमारे देश की महिलाएं हर सेक्टर में मर्दों से कंधे से कंधे मिला कर चल रही हैं। साथ ही देश की महिलाएं नक्सलियों और आतंकवादियों को मुंहतोड़ जवाब दे रही है। वही, बिहार देश का पहला ऐसा राज्य बन गया है जहां पर महिला कमांडो की टीम तैयार की गई है। यह कमांडो, महाराष्ट्र से जल्द ही ट्रेनिंग लेकर राज्य को लौटेंगी।

यह महिलाएं उन मोर्चे पर सुरक्षा की जिम्मेदारी संभालती नजर आएंगी जहां पर कुछ ही चुने गए फोर्सों (Forces) की हीं तैनाती की जाती है। इन सभी को Anti-Terrorism Squad, Special Task Force और Special Security Group में नियुक्त किया जाएगा। महिला कमांडो ना सिर्फ बड़े अभियानों का हिस्सा बनेगी, बल्कि CM की भी सुरक्षा करती दिखाई देंगी। जो SSG के अंतर्गत आती है।

महाराष्ट्र के मुटखेड में CRPF का सेंट्रल ट्रेनिंग सेंटर है। वही इन महिला सिपाहियों को भेजा गया है। उन्हें वहां पर हर परिस्थितियों का मुकाबला करना सिखाया जा रहा है। बड़े हमले को असफल करने से लेकर बड़े से लेकर छोटे हथियारों को चलाने के लिए ट्रेनिंग जैसी हर चीज़ें सिखाई जा रही है।

आपको बता दें कि इन महिला सिपाहियों को मुटखेड के CRPF के Central Training Center भेजने से पहले ही बिहार में इन सभी की Pre Conditioning Training दी जा चुकी है। इन सभी को पटना (Patna) में मौजूद BMP-5 और Jamalpur में तैयार करने के बाद भेजा गया है।

BMP की DIG गरिमा मल्लिक (Garima Mallick) और कमांडेंट सुशील कुमार (Sushil Kumar) जल्द ही मुटखेड जानेवाले हैं। जिसके बाद यह महिला कमांडोज़ बिहार वापस आयेंगी। बिहार के बेटों के साथ साथ अब यहां की बेटियां भी देश की सेवा में अपना योगदान देने को तैयार है।