फुल वॉल्यूम 360° देश

केंद्रीय मंत्रिमंडल का होगा विस्तार, दिख सकते हैं नए चेहरे

PM-MODI
Spread It

केंद्र सरकार 7 जुलाई को मंत्रिमंडल का विस्तार करने जा रही है। लेकिन इससे एक दिन पहले 6 जुलाई को एक नया मंत्रालय बनाया गया। केंद्र सरकार ने ऐतिहासिक कदम उठाते हुए ‘मिनिस्‍ट्री ऑफ को-ऑपरेशन’ मंत्रालय बनाया है। ‘सहकार से समृद्धि’ के सपने को साकार करने के लिए केंद्र सरकार ने यह नया मंत्रालय गठित किया है। मंत्रिमंडल के विस्तार में भारत के पहले ‘सहकारिता मंत्री’ के रूप में कौन इस कुर्सी पर बैठेगा इसकी घोषणा 7 जुलाई को पता चलेगा। केंद्रीय मंत्रिमंडल में फेरबदल के बाद मंत्री को शपथ दिलाई जाएगी।

नया मंत्रालय देश में सहकारिता आंदोलन को मजबूत करने के लिए अलग प्रशासनिक, कानूनी और नीतिगत ढांचा मुहैया कराएगा। जो सहकारी समितियों को जमीनी स्तर तक पहुंचने में मदद करेगा। देश में सहकारिता आधारित आर्थिक विकास का मॉडल बहुत प्रासंगिक है। इस मॉडल में प्रत्येक सदस्य जिम्मेदारी की भावना के साथ काम करता है। मंत्रालय सहकारी समितियों के लिए ‘व्यापार सुगमता’ यानी ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की प्रक्रियाओं को आसान बनाएगा। साथ ही मल्‍टी-स्‍टेट को-ऑपरेटिव्‍ज (MSCS) के विकास को सक्षम करने के लिए काम करेगा।

नई कैबिनेट में जिनको जगह मिलेगी उसमें 13 वकील, 6 डॉक्टर, 5 इंजिनियर, 7 पूर्व सिविल सर्वेंट हैं। साथ ही 46 ऐसे लोग हैं जो केंद्र सरकार में काम करने का अनुभव है। कैबिनेट की औसत उम्र अब 58 साल है। इन मंत्रियों में 14 मंत्री ऐसे होंगे जिनकी उम्र 50 साल से नीचे होगी। इसके साथ ही मंत्रिमंडल में 11 महिलाओं को भी जगह दी जाएगी। साथ ही इसमें 5 अल्पसंख्यक मंत्री होंगे।