फुल वॉल्यूम 360° देश विदेश विविध

इस डूबती बिहार से सीख ले रहा है स्पेन, पूरे दुनिया में हो रही है चर्चा

statue-of-drowning-girl-sparks-alarm-in-Spain
Spread It

ऑर्टवर्कस आम तौर पर दिल को सुकून पहुंचाने वाला होता है लेकिन कई बार ये चौंकाने वला भी हो सकता है। क्या आपको पता है की स्पेन में बिहार को बनाया गया है ? अरे नहीं, नहीं, ये वो नहीं है जो आप सोच रहे हैं। वर्तमान में वर्ल्ड जियोग्राफी नहीं बदली है। बिहार, अभी भी भारत का ही एक राज्य है। नमस्कार। दरअसल, स्पेन के शहर बिलबाओ की नदी नर्वियन में एक डूबती हुई लड़की का स्टेचू बनाया गया है जिसका नाम बिहार रखा गया है। ये स्टेचू स्पेन के स्थानीय लोगों का ध्यान खींच रहा है और चर्चा का विषय बन गया है।
बिलबाओ की नर्वियन नदी के गंदे पानी से बाहर निकलते हुए, एक युवा लड़की का सजीव चेहरा स्पेनिश शहर में लोगों को परेशान कर रहा है। स्पेन में अभी काफी विवाद है की आखिर ये नदी में डूबती हुई लड़की कौन है ? दरअसल, इस “डूबती हुई लड़की की मूर्ति” को मैक्सिकन आर्टिस्ट रूबेन ओरोज्को द्वारा बनाया गया है। इस स्टेचू का नाम “बिहार” रखा गया है, जिसका बास्क भाषा में अर्थ tomorrow यानी की कल होता है।


यह स्टेचू BBK Foundation के एक कैंपेन के लिए है, जिसे सस्टेनेबिलिटी और क्लाइमेट चेंज के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देने के लिए बनाया गया है। BBK Foundation मुख्य रूप से स्पेनिश प्रांत बिस्के में, एक बॉडी है जो विकास की दिशा में काम करता है। इसमें सिर्फ उस लड़की का चेहरा दिखाई दे रहा है, जिसमें वो आकाश की ओर चमकती आँखों से देख रही है।


यह स्टेचू 120 किग्रा के फाइबरग्लास का बना हुआ है। जैसे-जैसे पानी का फ्लो बढ़ता और गिरता है, यह मूर्ति हर बार पानी में डूबती और फिर ऊपर आ जाती है, जो इस बात का आईना दिखाता है की क्या हो सकता है, अगर हम अस्थिर चीज़ों जैसे की क्लाइमेट का ज़रूरत से ज़्यादा यूज करते हैं और उसके दोहन में अपनी भागीदारी जारी रखते हैं। इस स्टेचू को बनाने का लक्ष्य लोगों को जागरूक करना है कि “उनके कार्य हमें डूबा सकते हैं या हमें बचाए रख सकते हैं।”
ये स्टेचू तो बस जागरूक करने का एक जरिया है, जो स्पेन में बनाई गयी है पर ये क्लाइमेट चेंज की समस्या सिर्फ विदेश में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया, यहाँ तक की भारत और बिहार में भी है। अब ये हमपे डिपेंड करता है की हम प्रकृति को बचा कर इसे अपने आने वाली पीढ़ी को सही सलामत सौंपना चाहते हैं या फिर अपने स्वार्थ के कारण इसे पूरी तरह इस्तेमाल करके नष्ट करना चाहते हैं।