खेल देश फुल वॉल्यूम 360° महिला विदेश

Asian Boxing Championship में भारत की पूजा ने जीता स्वर्ण, स्टार मुक्केबाज मेरी कॉम को करना पड़ा हार का सामना

0001 2133715959 20210531 110746 0000
Spread It

दुबई में खेले जा रहे एशियाई मुक्केबाजी चैम्पियंसिप में भारत की तीन बेटियों ने मेडल हासिल किया है। भारतीय बॉक्सर पूजा रानी ने जहां गोल्ड पर पंच जमाया तो वहीं 6 बार की वर्ल्ड चैंपियन रहीं एम सी मेरी कॉम (MC Mary Kom) को सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा।

गत चैंपियन पूजा रानी (Pooja Rani) ने एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप (Asian Boxing Championship) में शानदार जीत दर्ज कर लगातार दूसरा स्वर्ण पदक हासिल किया है।
टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई कर चुकीं पूजा (75 किग्रा) बाई और वॉकओवर मिलने के बाद टूर्नामेंट का पहला मुकाबला खेल रही थीं। उन्होंने अपने शानदार प्रदर्शन के बूते उज्बेकिस्तान की मावुलडा मोवलोनोवा को पराजित किया। एक मुकाबले में स्वर्ण पदक जीतने से उन्हें 10,000 डॉलर की इनामी राशि मिली। प्रतिद्वंद्वी के आगे उनकी तेजी का कोई मुकाबला नहीं था।

वहीं छह बार की वर्ल्ड चैम्पियन एमसी मैरीकॉम (Mary Kom) (51 किग्रा) को फाइनल मुकाबले में कजाखस्तान की नाजिम किजाइबे (Nazim Kyzaibay) से 2-3 से पराजित होना पड़ा। हालांकि उन्होंने टूर्नामेंट में अपना सातवां पदक हासिल किया। दिग्गज मुक्केबाज मेरी कॉम ने एशियाई चैंपियनशिप में अपना पहला पदक 2003 में जीता था और इस तरह उन्होंने अब तक पांच स्वर्ण और दो रजत पदक जीते हैं।

भारत के मणिपुर से आने वाली इस खिलाड़ी को पुरस्कार राशि के तौर पर 5000 डॉलर (लगभग 3.6 लाख रुपये) और मेरी कॉम को शिकस्त दे कर स्वर्ण पदक अपने नाम करने वाली किजाइबे को 10,000 (लगभग 7.2 लाख रुपये) मिले।

भारतीय मुक्केबाज सिमरनजीत कौर (Simranjeet Kaur) (60 किग्रा), विकास कृष्ण (Vikash Krishn) (69 किग्रा), लवलीना बोरगोहेन (Lovlina Borgohain) (69 किग्रा), जैस्मीन (Jaismine) (57 किग्रा), साक्षी चौधरी (Shakshi Chaudhary)(64 किग्रा), मोनिका (Monika) (48 किग्रा), स्वीटी (Sweety)(81 किग्रा) और वरिंदर सिंह (Varindar Singh) (60 किग्रा) को सेमीफाइनल में हार का सामना करना पड़ा। इन सबने देश के लिए कांस्य पदक के साथ पुरस्कार के तौर पर 2,500 डॉलर हासिल किए है।

31मई को गत चैम्पियन अमित पंघल ( 52 किग्रा), शिव थापा (64 किग्रा) और संजीत (91 किग्रा) पुरूषों के स्वर्ण पदक मुकाबले खेलेंगे। पंघल फाइनल में रियो ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता और मौजूदा विश्व चैंपियन उज्बेकिस्तान के मुक्केबाज जोइरोव शाखोबिदीन के खिलाफ जबकि असम के मुक्केबाज थापा को एशियाई खेलों के रजत पदक विजेता मंगोलिया के बातरसुख चिनजोरिग से चुनौती मिलेगी।