खेल फुल वॉल्यूम 360°

युवा खिलाड़ियों से सजी भारतीय टीम 5 जुलाई को होगी कोलम्बो रवाना, ‘द वाल’ के पास होगी हेड कोच की कमान !

rahul-dravid
Spread It

भारतीय टीम जुलाई में श्रीलंका दौरे पर रवाना होगी। इस बात की जानकारी खुद बीसीसीआई प्रेसिडेंट सौरव गांगुली (sourav ganguly) ने पिछले दिनों दी थी। गांगुली के अनुसार इंग्लैंड दौरे पर जाने वाले खिलाड़ी श्रीलंका दौरे पर नहीं जा सकेंगे। ऐसे में उम्मीद है कि श्रीलंका दौरे पर जाने वाली भारतीय टीम युवा खिलाड़ियों से सजी होगी।

युवा खिलाड़ियों से सजी, इस साल जुलाई में श्रीलंका जाने वाली टीम इंडिया (Team India) की बागडोर भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) के हाथों में दी जा सकती है।

‘द वाल’ के नाम से मशहूर राहुल द्रविड़ के लिए कोच की भूमिका नई नहीं है। वो 2016 से 2019 तक इंडिया-ए (India-A Team) और अंडर-19 टीम के हेड कोच रहे हैं। उनके कोच रहते ही भारत की अंडर-19 टीम 2016 में विश्व कप के उपविजेता और 2018 में विश्व कप चैम्पियन बनी थी।

द्रविड़ को 2019 में बीसीसीआई (BCCI) ने नेशनल क्रिकेट एकेडमी (NCA) का डायरेक्टर बनाया था। इस रोल में भी उन्होंने नए खिलाड़ियों और कोच को तराशने का काम बखूबी किया है।

मौजूदा समय में भारतीय क्रिकेट टीम के लिए खेल रहे ऋषभ पंत, ईशान किशन, वाशिंगटन सुंदर, पृथ्वी शॉ जैसे खिलाड़ियों ने राहुल द्रविड़ के अंडर-19 कोच होने के दौरान टीम इंडिया में अपनी काबिलियत के दम पर जगह बनाई थी। इनकी काबिलियत को पहचान कर इनके हुनर को निखारने के श्रेय राहुल द्रविड़ को ही जाता है। एक बार फिर इन खिलाड़ियों को राहुल द्रविड़ से एक कोच के तौर पर सीखने का मौका मिल सकता है। भारतीय युवा खिलाड़ियों के टैलेंट को दिशा देने के लिए द्रविड़ का नाम जाना जाता है।

कोलम्बो के मैदान पर होगा भारत का श्रीलंका से मुकाबला

जुलाई में सीमित ओवरों की सीरीज खेलने श्रीलंका जा रही भारतीय क्रिकेट टीम 5 जुलाई को श्रीलंका के लिए रवाना होगी। प्राप्त जानकारी के अनुसार सभी 6 मैचों (3 एकदिवसीय-3 टी20) का आयोजन कोलम्बो में किया जाएगा। कोरोना महामारी में मध्येनजर खिलाड़ियों की सुरक्षा का ध्यान रखते हुए सारे मैच मजबूत बायो-बब्बल में कराए जाएंगे।

हालांकि श्रीलंका में कोरोना के हालात काबू में हैं फिर भी सुरक्षा को ध्यान में रख कर श्रीलंका क्रिकेट ने सारे मैच एक ही जगह कराने का फैसला लिया है। एक ही वेन्यू पर सारे मैच कराए जाने से खिलाड़ियों को अनावश्यक यात्रा नहीं करनी होगी और बायो बब्बल की सुरक्षा को सुनिश्चित किया जा सकेगा।