खेल फुल वॉल्यूम 360°

ECB : कोरोना के कारण इंग्लैंड एंड वेल्श क्रिकेट बोर्ड को झेलना पड़ा था भारी आर्थिक नुकसान, डूबने से बची बोर्ड की नैया

england cricket board
Spread It

इंग्लैंड एंड वेल्श क्रिकेट बोर्ड (ECB) के जारी किए रिपोर्ट से पता चलता है कि पिछले साल कोरोना के कारण बोर्ड को काफी भारी आर्थिक नुकसान हुआ है। रिपोर्ट के अनुसार ECB को 16.1 मिलियन पौंड (लगभग एक अरब और 68 करोड़ रुपये) का नुकसान हुआ था।

कोरोना काल के में क्रिकेट मैच के आयोजन नहीं हो रहे थे। क्रिकेट की वापसी कराने के लिए पिछले साल की गर्मियों के दौरान ECB ने बॉयो-बबल क्रिएट करने में काफी खर्च किया था।

इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड को हुआ है काफी अधिक नुकसान

रिपोर्ट्स के अनुसार, कोरोना के कारण ECB का राजस्व 207 मिलियन पौंड (21 अरब और 50 करोड़ रुपये) से घटकर केवल 21 मिलियन पौंड (दो अरब और 18 करोड़ रुपये) ही रह गया है। इंग्लिश बोर्ड ने अपनी नई फ्रेंचाइजी लीग ‘द हंड्रेड’ (The Hundred) में काफी अधिक निवेश किया था, लेकिन कोरोना के कारण यह रद्द हो गई थी। जिस वजह से बोर्ड को भारी नुकसान हुआ है। फर्स्ट क्लास क्रिकेट समेत सभी तरह की क्रिकेट में नुकसान 100 मिलियन पौंड (लगभग 10 अरब और 38 करोड़ रुपये) से अधिक है।

ECB पर मंडरा रहा था बड़ा खतरा

खबर है कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का आयोजन करके ECB ने खुद को बड़ी मुसीबत में जाने से बचाया है। कोरोना महामारी के बीच पिछले साल जुलाई में क्रिकेट की वापसी हुई थी।

इंग्लैंड ने तीन टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए वेस्टइंडीज की टीम को होस्ट किया था। इसके बाद आयरलैंड, पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया ने भी इंग्लैंड का दौरा किया था। सितंबर में महिला टीम ने भी वेस्टइंडीज को होस्ट किया था।

ECB को झेलना पड़ सकता था लगभग 40 अरब रुपए का नुकसान

ECB ने 2020 का पूरा समर (Summer) अगर कोरोना के कारण गंवा दिया होता तो उन्हें 380 मिलियन पौंड (39 अरब और 46 करोड़ रुपये) का नुकसान हो सकता था।

ECB के चीफ फाइनेंसियल ऑफिसर स्कॉट स्मिथ ने कहा है कि 2020 एक चुनौतीपूर्ण साल था, लेकिन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट होस्ट कर पाने और महामारी की शुरुआत में ही अहम निर्णय लेने से उन्होंने नेटवर्क को सपोर्ट दिया और बुरा आर्थिक नुकसान होने से खुद को बचा लिया।

2019-20 सीजन में ECB को हुआ था लगभग 68 करोड़ रुपये का फायदा

2019-20 सीजन में ECB ने रिकॉर्ड 228 मिलियन पौंड (23 अरब और 67 करोड़ रुपये) का टर्नओवर किया था। फाइनेंसियल साल में उन्हें 6.5 मिलियन पौंड (लगभग 68 करोड़ रुपये) का मुनाफा हुआ था। इसके अलावा कैश रिजर्व भी 11.2 मिलियन पौंड (एक अरब और 16 करोड़ रुपये) से बढ़कर 17.1 मिलियन पौंड (लगभग एक अरब और 78 करोड़ रुपये) हो गया था। 2019 क्रिकेट विश्व कप, पुरुष और महिला एशेज जैसे आयोजनो ने इस मुनाफे में अहम रोल निभाया था।

भारत में मिलेगा बैटरी भंडारण को बढ़ावा, 18,100 करोड़ रुपये के स्कीम को मिली मंजूरी