फुल वॉल्यूम 360° देश विदेश

Eastern Economy Forum के छठे सत्र को PM Modi ने किया वीडियो संदेश से संबोधित, कहा ‘एक्ट ईस्ट नीति’ के तहत भारत-रूस की विश्वसनीय भागीदारी

PM-MODI
Spread It

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने आज ईस्टर्न इकोनॉमी फोरम (EEF) के तहत व्लादिवोस्तोक में आयोजित छठे पूर्ण सत्र को वीडियो संदेश से संबोधित किया। पीएम मोदी ने रूस के सुदूर पूर्वी क्षेत्रों के विकास के लिए राष्ट्रपति पुतिन के दृष्टिकोण की सराहना की। साथ ही ‘एक्ट ईस्ट नीति’ के तहत रूस साथ भारत की विश्वसनीय भागीदारी की प्रतिबद्धता को दोहराया। उन्होंने रूस में सुदूर पूर्व के विकास में भारत से जुड़ी प्राकृतिक पूरकताओं को रेखांकित किया।

भारत-रूस की साझेदारी

इस दौरान पीएम ने कहा है कि ऊर्जा क्षेत्र में भारत-रूस की साझेदारी विश्व के ऊर्जा बाजारों में स्थिरता लाने में मदद कर सकती है। उन्होंने आगे कहा कि भारत और रूस गगनयान कार्यक्रम के माध्यम से अंतरिक्ष अन्वेषण में भागीदार हैं। दोनों देश अंतरराष्ट्रीय व्यापार और वाणिज्य के लिए उत्तरी समुद्री मार्ग को खोलने में भी भागीदार होंगे।भारत और रूस कई परियोजनाओं पर मिलकर काम कर रहे हैं।

2019 में 5वें EEF के मुख्य अतिथि थे पीएम मोदी

पीएम मोदी ने महामारी के दौरान उभरे सहयोग के महत्वपूर्ण क्षेत्रों के रूप में स्वास्थ्य और फार्मा क्षेत्रों के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने हीरा, कोकिंग कोल, स्टील, लकड़ी आदि सहित आर्थिक सहयोग के अन्य संभावित क्षेत्रों का भी उल्लेख किया। बता दें कि पीएम मोदी 2019 में 5वें ईईएफ के मुख्य अतिथि थे। भारतीय राज्यों के मुख्यमंत्रियों की ईईएफ-2019 की यात्रा को याद करते हुए पीएम मोदी ने रूस के सुदूर पूर्व के 11 क्षेत्रों के राज्यपालों को भारत आने का निमंत्रण दिया।

EEF के तहत कई मंत्रियों ने अलग-अलग कार्यक्रमों में लिया हिस्सा

कोविड-19 महामारी की चुनौतियों के बावजूद पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री हरदीप सिंह पुरी के नेतृत्व में एक भारतीय प्रतिनिधिमंडल EEF के ढांचे के भीतर बने भारत-रूस व्यापार वार्ता में भाग ले रहे हैं। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और रूस के सखा-याकुतिया प्रांत के राज्यपाल के बीच ईईएफ से इतर 2 सितंबर को एक ऑनलाइन बैठक हुई। विभिन्न क्षेत्रों की प्रतिष्ठित भारतीय कंपनियों के 50 से अधिक प्रतिनिधि भी ऑनलाइन प्रारूप में भाग लिया।