फुल वॉल्यूम 360° खेल निधन-श्रद्धांजलि

O.P. Bharadwaj : भारतीय बॉक्सिंग जगत को गहरा आघात, नहीं रहे बॉक्सिंग के पहले द्रोणाचार्य अवार्ड विजेता

o p bharadwaj
Spread It

भारतीय बॉक्सिंग जगत को 21 मई को एक बड़ा नुकसान हुआ है। भारतीय बॉक्सिंग जगत के पहले द्रोणाचार्य अवार्ड जीतने वाले ओ पी भारद्वाज (OP Bhardwaj) को खो दिया है। भारत के पूर्व राष्ट्रीय कोच रहे भारद्वाज ने 82 साल की उम्र में निधन हो गया है। उन्होंने 10 दिन पहले ही अपनी पत्नी को खोया था

स्वास्थ्य संबंधी कई परेशानियों के कारण वह पिछले कई दिनों से अस्वस्थ थे और अस्पताल में भर्ती थे। उम्र संबंधी परेशानियों की वजह से भी वो तकलीफ में थे। 10 दिन पहले अपनी पत्नी के निधन से भी उन्हें काफी आघात पहुंचा था और पत्नी के जाने के 10 दिन बाद ही वो भी इस दुनिया को छोड़ कर चले गए।

द्रोणाचार्य अवार्ड से किया गया था सम्मानित

भारद्वाज 1968 से 1989 तक नेशनल कोच (National Coach) रहे थे। उन्हें 1985 में बॉक्सिंग कोच (Boxing Coach) के तौर पर द्रोणाचार्य अवार्ड से सम्मानित किया गया था। उनके नेशनल कोच रहते भारत ने एशियाई खेलों (Asian Games) और कॉमन वेल्थ गेम्स (Common Wealth Games) में मैडल जीते थे। उन्होंने नेशनल कोच के साथ-साथ नेशनल सेलेक्टर (National Selector) की भी भूमिका निभाई थी।

भारद्वाज को 1985 में द्रोणाचार्य पुरस्कार शुरू किए जाने पर बालचंद्र भास्कर भागवत (कुश्ती) और ओ एम नांबियार (एथलेटिक्स) के साथ कोचिंग को दिए जाने वाले इस सर्वोच्च पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने भी ली थी उनसे ट्रेंनिंग

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने साल 2008 में दो महीने के लिए ओपी भारद्वाज से बॉक्सिंग की ट्रेनिंग ली थी। आज राहुल गांधी के पिता राजीव गांधी (Rajeev Gandhi) की 30वीं पुण्य तिथि भी है।

SundarLal Bahuguna : चिपको आंदोलन का नेतृत्व करने वाले सुंदरलाल बहुगुणा का निधन, कोरोना से थे संक्रमित