फुल वॉल्यूम 360° देश योजना-परियोजना

Narendra Singh Tomar : हनी टेस्टिंग लेबोरेटरी परियोजना का हुआ शुभारंभ

narendra-singh-tomar
Spread It

कृषि मंत्री Narendra Singh Tomar ने Indian Agricultural Research Institute, Pusa, New Delhi में ‘हनी टेस्टिंग लेबोरेटरी'(Honey Testing Laboratory ) स्थापित करने की परियोजना का शुभारंभ किया। National Beekeeping & Honey Mission (NBHM) के समग्र प्रोत्साहन, साइंटिफिक मधुमक्खी पालन के विकास और इस मीठी क्रांति के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए 300 करोड़ रुपये स्वीकृत किए गए हैं।

इस परियोजना का उद्घाटन करते हुए तोमर ने कहा कि “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत सरकार पूरी तरह से गांव, गरीब, किसानों के लिए समर्पित है। देश में शहद का उत्पादन बढ़ रहा है और इसका निर्यात भी बढ़ रहा है। अच्छी गुणवत्ता वाले शहद के लिए भी प्रयास किए जा रहे हैं। छोटे और मध्यम स्तर के किसान इस काम को करने के लिए आगे आएं ताकि उनकी आमदनी बढ़ाई जा सके।”

आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत केंद्र द्वारा NBHM को 500 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं। National Dairy Development Board (NDDB), आनंद में 5 करोड़ रुपये की सहायता से एक विश्व स्तरीय अत्याधुनिक शहद परीक्षण प्रयोगशाला स्थापित की गई है। इसके अलावा, शहद और मधुमक्खी पालन के अन्य उत्पादों के लिए आठ-आठ करोड़ रुपये की राशि से दो और, क्षेत्रीय और बड़ी टेस्टिंग लैबोरेट्रीज को मंजूरी दी गई है।

शहद मधुमक्खियों द्वारा बनाया गया एक मीठा, चिपचिपा खाद्य पदार्थ है। शहद कई गुणों और पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इसका उपयोग आयुर्वेद में कई बीमारियों को दूर करने के लिए किया जाता रहा है और प्राचीन काल में इसे देवताओं का अमृत भी कहा जाता है। शहद में वजन को बढ़ने से रोकने के गुण पाए जाते हैं और यह वजन के बढ़ने की गति को धीमा कर देता है। यह मुंहासों, एसिडिटी, झुर्रियों को बेहतर बनाने, दमा, कोलेस्ट्रॉल और हृदय रोगों से लड़ने में कारगर होते हैं।

Cyclone Yaas : भगवान भी मूड में हैं, भेज रहे हैं एक और मौत का सामान, बिहार पे भी मंडरा रहा है खतरा