फुल वॉल्यूम 360° देश योजना-परियोजना विदेश

Letter of Exchange : भारत और नेपाल के बीच रेल कार्गो आवाजाही को मिला बढ़ावा

train
Spread It

भारत और नेपाल के बीच रेल कार्गो आवाजाही को बड़ा बढ़ावा मिला है। भारत के भीतर नेटवर्क पर माल ढोने वाले सभी प्रकार के वैगनों में कार्गो, अब नेपाल से आने-जाने के लिए भी माल ढो सकते हैं। यह कदम, नेपाल में रेल माल ढुलाई खंड में बाजार की ताकतों को आने की अनुमति देगा, और इससे दक्षता और लागत-प्रतिस्पर्धा में वृद्धि होने की संभावना है।

इन कार्गो ट्रेन ऑपरेटरों में सार्वजनिक और निजी कंटेनर ट्रेन ऑपरेटर, ऑटोमोबाइल फ्रेट ट्रेन ऑपरेटर, विशेष माल ट्रेन ऑपरेटर या भारतीय रेलवे द्वारा अधिकृत कोई अन्य ऑपरेटर शामिल हैं। यह भारत और नेपाल के अधिकारियों के बीच नोट वर्बल्स के औपचारिक आदान-प्रदान और लेटर ऑफ एक्सचेंज की साइंड कॉपीज के बाद 9 जुलाई 2021 से लागू होता है।

इस Letter of Exchange के बाद, सभी श्रेणियों के वैगनों में सभी प्रकार के कार्गो जो भारत के भीतर भारतीय रेलवे नेटवर्क पर माल ढुलाई कर सकते हैं, वे भी नेपाल से माल ले जा सकते हैं। Nepal Railway Company के स्वामित्व वाले वैगनों को भी IR मानकों और प्रक्रियाओं के अनुसार भारतीय रेलवे नेटवर्क पर नेपाल जाने वाले माल ढुलाई के लिए अधिकृत किया जाएगा।

इस लेटर ऑफ एक्सचेंज पर साइन “Neighbourhood First” नीति के तहत क्षेत्रीय संपर्क बढ़ाने के भारत के प्रयासों में एक और मील का पत्थर है। यह एक समझौता है जो रेल द्वारा भारत और नेपाल के बीच आवाजाही का मार्गदर्शन करता है।