देश फुल वॉल्यूम 360° लाइफ स्टाइल हेल्थ

2-DG : DRDO की दवा का पहला बैच हुआ लॉन्च, कम होगी ऑक्सीजन पर निर्भरता

drdo-vaccines
Spread It

भारत समेत दुनिया के अधिकांश हिस्‍से में कोविड 19 कहर बनकर टूट रहा है। इस महामारी से थोड़ा राहत देने के लिए केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) और स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन (Dr. Harshwardhan) ने एंटी-कोविड दवा का पहला बैच लांच किया। इस 2-deoxy-D-glucose दवा को DRDO की Institute of Nuclear Medicine and Allied Sciences (INMAS) ने Dr Reddy’s Laboratories (DRL) के सहयोग से विकसित किया है।

यह दवा महामारी के खिलाफ लड़ाई में एक गेम-चेंजर हो सकती है क्योंकि यह अस्पताल में भर्ती मरीजों को तेजी से ठीक करने में मदद करती है और ऑक्सीजन पर निर्भरता को कम करती है। यह दवा एक पाउडर के रूप में उपलब्‍ध होगी। इसे पानी में घोलकर मौखिक रूप से लिया जायेगा। यह दवा एक ऐंटी-कोविड ड्रग है।

अप्रैल 2020 में, महामारी की पहली लहर के दौरान, INMAS-DRDO के वैज्ञानिकों ने Centre for Cellular and Molecular Biology (CCMB), हैदराबाद की मदद से प्रयोगशाला प्रयोग किए और पाया कि यह अणु SARS-CoV-2 वायरस के खिलाफ प्रभावी ढंग से काम करता है और वायरल विकास को रोकता है। इन परिणामों के आधार पर, Drugs Controller General of India (DCGI) Central Drugs Standard Control Organisation (CDSCO) ने इस दवा के फेज- II क्लीनिकल ट्रायल की अनुमति दी थी।

फिलहाल इस दवा को सेकेंडरी मेडिसिन की तरह यूज करने की परमिशन दी गई है यानी यह प्राइमरी मेडिसिंस के सपोर्ट में यूज की जाएगी। कोविड-19 मरीजों को पूरी तरह से ठीक होने के लिए 5 से 7 दिन तक यह दवा देनी पड़ सकती है। इस दवा को मंजूरी ऐसे समय मिली है जब देश कोरोना वायरस बीमारी की दूसरी घातक लहर से जूझ रहा है। देशवासियों को उम्मीद है की इस दवा से कोरोना के रोकथाम में मदद मिलेगी।

Miss Universe 2020 : 73 देशों की प्रतिनिधियों को पीछे छोड़ मेक्सिको की Andrea Meza के सिर सजा मिस यूनिवर्स 2020 का ताज,भारत की Adline Castelino रहीं थर्ड रनरअप