देश फुल वॉल्यूम 360°

Indian Railway : रेलवे ने तैयार किए 70,000 आइसोलेशन बेड, 4400 डिब्बों में आइसोलेशन कोच, इन शहरों को मिली सुविधा

train-hospital
Spread It

ऐसे समय में जब भारत कोरोना की दूसरी लहर के खिलाफ युद्ध लड़ रहा है, और तीसरी लहर के खतरे में है। इसी बीच भारतीय रेलवे (Indian Railway) कोरोना के इस संकट की घड़ी में अपना किरदार निभाने की पूरी कोशिश कर रहा है। भारतीय रेलवे के सदस्य इस कार्य के लिए कार्यबल और सामग्री जुटाते हुए मांग के स्थानों (संबंधित राज्यों द्वारा बनाए गए) पर आइसोलेशन के लिए तेजी से कदम उठा रहे हैं।

रेलवे मंत्रालय के द्वारा दिए गए बयान में कहा गया है कि उन्होंने 4400 से अधिक आइसोलेशन कोचों का एक बेड़ा उपलब्ध कराया है जिसमें लगभग 70,000 बिस्तरों के साथ आइसोलेशन यूनिट्स हैं। ताजा अपडेट के मुताबिक, असम राज्य की ताजा मांगों के साथ, रेलवे ने गुवाहाटी में 21 आइसोलेशन कोच और 20 आइसोलेशन कोच को असम (सिल्ली रेलवे) के सिलचर के पास बदरपुर में स्थानांतरित कर दिया है। इससे पहले सप्ताह में, साबरमती, चंदलोदिया और दीमापुर में आइसोलेशन कोच तैनात किए गए थे।

राज्यों की मांग के अनुसार, वर्तमान में 298 कोच 4700 से अधिक बेड की क्षमता वाले कोविड मरीजों की देखभाल के लिए विभिन्न राज्यों को सौंप दिए गए हैं। ताजा मांग गुजरात राज्य सरकार की है, जिसमें रेलवे ने साबरमती के लिए 10 और चंदोलिया के लिए 6 कोच तैनात किए हैं। इसके साथ ही, नागालैंड राज्य सरकार द्वारा आइसोलेशन कोचों की मांग के संदर्भ में, रेलवे ने दिमापुर में 10 आइसोलेशन कोचें और 5 आइसोलेशन कोच जिसमें 70 बिस्तर वाले आइसोलेशन कोच चिकित्सा कर्मियों के लिए जबलपुर में तैनात किए गए हैं, जो अब कार्य कर रहे हैं। जिला प्राधिकरणों के साथ अनुबंध की शर्तों के संदर्भ में 21 कोच अब रेलवे द्वारा पालघर में मेडिकल अर्जेंसी के लिए कार्यात्मक बना दिए गए हैं। इन कोचों में ऑक्सीजन सिलेंडर के 2 सेट भी दिए गए हैं, ताकि कई स्थानों पर राज्य स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा किसी भी तरह की कोई भी आवश्यकता हो तो पूरी की जा सके।

पिछले साल, जब भारत ने देशव्यापी तालाबंदी की घोषणा की थी, रेलवे ने घोषणा की थी कि वह डिब्बों को आइसोलेशन केंद्रों में बदल देगा। अब, इस साल भी जब देश कोरोनावायरस से जंग लड़ रहा है तो भारतीय रेलवे अपना किरदार बखूबी निभाते दिख रहा है।