फुल वॉल्यूम 360° देश

Emergency Landing Facility : अब नेशनल हाईवे पर लैंड होंगे विमान

Rajnath-Singh
Spread It

पहली बार इतिहास में ऐसा हुआ है कि नेशनल हाईवे का इस्तेमाल इंडियन एयरफोर्स के विमानों की इमरजेंसी लैंडिंग के लिए किया जाएगा। दरअसल, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) और सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने भारतीय वायु सेना के विमानों के लिए Emergency Landing Facility (ELF) का उद्घाटन किया। यह उद्घाटन राजस्थान के बाड़मेर के सत्ता-गंधव (Satta-Gandhav) खंड में नेशनल हाईवे-925A (NH-925A) पर की गयी।

NHAI ने भारतीय वायु सेना के लिए तीन किलोमीटर के खंड को ELF के रूप में विकसित किया है। यह भारतमाला परियोजना के तहत गगरिया-बखासर (Gagariya-Bakhasar) और सट्टा-गंधव (Satta-Gandhav) खंड के नव-विकसित टू-लेन पक्के कंधे का हिस्सा है, जिसकी कुल लंबाई 196.97 किलोमीटर है और इसकी लागत 765.52 करोड़ रुपये है। इसका काम जुलाई 2019 में शुरू हुआ और जनवरी 2021 में पूरा हुआ।

यह लैंडिंग स्ट्रिप सभी प्रकार के IAF विमानों की लैंडिंग की सुविधा प्रदान करने में सक्षम होगी। यह ‘इमरजेंसी लैंडिंग फील्ड’ न केवल युद्ध के दौरान बल्कि प्राकृतिक आपदाओं के समय भी मददगार होगी। यह परियोजना अंतरराष्ट्रीय सीमा पर स्थित बाड़मेर और जालौर जिलों के गांवों के बीच सम्पर्क में सुधार करेगी। इसके पश्चिमी सीमा क्षेत्र में स्थित होने से भारतीय सेना को निगरानी करने में मदद के साथ-साथ बुनियादी ढांचे को मजबूत करने में भी सहायता मिलेगी।

इस परियोजना के तहत इमरजेंसी लैंडिंग स्ट्रिप के अलावा, आर्म्ड फोर्सेज की आवश्यकताओं के अनुसार कुंदनपुरा (Kundanpura), सिंघानिया (Singhania) और बखासर (Bakhasar) गांवों में तीन हेलीपैड का निर्माण किया गया है। सामान्य समय के दौरान, सड़क यातायात के सुचारू प्रवाह के लिए ELF का उपयोग किया जाएगा।