फुल वॉल्यूम 360° विदेश

Ancient Neanderthal Human : मिली पैंसठ हजार साल पुरानी पेंटिंग्स

Neanderthal-Man
Spread It

ये तो हम सभी जानते हैं की आधुनिक मानव से पहले आदिमानव की एक प्रजाति दुनिया में पाई जाती थी। किन्हीं कारणों से वे विलुप्त तो हो गएँ लेकिन उनके द्वारा किये गए काम, आज भी लोगों को चौंका रहे हैं। आधुनिक इंसान के पूर्वजों के बेहद करीब समझे जाने वाले प्राचीन निएंडरथल मानव की एक गुफा ने दुनियाभर के विशेषज्ञों के होश उड़ा दिए हैं। दरअसल, स्पेन की एक गुफा में पैंसठ हजार साल पुरानी पेंटिंग्स मिली हैं, जिन्हें निएंडरथल मानव (Ancient Neanderthal Human) ने बनाया था। वैज्ञानिकों को मानना है कि निएंडरथल मानव ने सबसे पहले पेंटिंग बनाई थी। इस खोज ने उन्हें इंसानों के और करीब ला दिया है।

Proceedings of the National Academy of Sciences यानी की PNAS जरनल में छपी स्टडी के अनुसार, साउथ स्पेन में मलागा के पास अर्डेल्स की गुफाओं में लगभग 65 हजार साल पुरानी पेंटिग्स मिली है। निएंडरथल मानव द्वारा बनाई गयी यह पेंटिंग उस समय बनाई गयी थी जब आधुनिक मानव दुनिया में नहीं थे। लाल और गेरुवा रंग के ये चित्र अर्डालेस गुफा की छत के टपकाव से फर्श पर जमा हुए चूने के स्तंभ पर पाए गए हैं। स्टडी में पता चला है कि गुफाओं में 15 से 20 हजार साल तक पेंटिंग बनाई गईं।

पहले वैज्ञानिक यह समझते थे कि गुफाओं की दीवारों पर रंग, नैचुरल ऑक्साइड के फ्लो का नतीजा है। मगर बाद में स्टडी में पाया गया की ये तो निएंडरथल मानव द्वारा बनाये गएँ है। हालाँकि इस पेंटिंग के मिलने के बाद यह संभव समझा गया है की निएंडरथल मानव, धरती पर पहले कलाकार थे। इंसान के पूर्वज कहे जाने वाले आधुनिक मानव की तुलना में निएंडरथल मानव उतने ज्‍यादा पिछड़े नहीं थे जितने की उन्‍हें अब तक समझा जाता रहा है। पर सवाल ये है की आखिर उनका नाम निएंडरथल ही क्यों रखा गया ?

निएंडरथल एक मनुष्य से अत्यधिक मिलती जुलती प्रजाति थी जो यूरोप में करीब दो लाख पचास हज़ार साल पहले रहती थी। ये होमो वंश का एक विलुप्त सदस्य है। इस आदिमानव की कुछ हड्डियाँ जर्मनी में निअंडर की घाटी में मिली, इसलिए इसे निएंडरथल मानव का नाम दिया गया है। अगर इसी कद काठी की बात करें तो इनका कद अन्य मानवजातियों की अपेक्षा छोटा था। ये पश्चिम यूरोप, पश्चिम एशिया तथा अफ्रीका में रहते थे। कुछ रिसर्च से यह पता चलता है कि इनके बालों का रंग लाल तथा त्वचा पीली थी।

निअंडरथल मानव क्यों विलुप्त हो गए यह अभी भी एक रहस्य बना हुआ है। लेकिन वैज्ञानिक इसके पीछे कई कारणों के बारे मे बताते हैं, जैसे की ज्वालामुखी, अपनी बड़ी आंखों की वजह से या फिर भोजन की कमी की वजह से।

निएंडरथल मानव की आंखें मौजूदा मनुष्यों की तुलना में काफी बड़ी थीं। उनकी आंखें यूरोप की लंबी काली रातों में और धुंधले दिनों में दूर तक देखने के लिए बनी थीं लेकिन इन बड़ी आँखों की कीमत उन्हें हाइली थिंकिंग माइंड को त्याग कर चुकानी पड़ी। वहीं मनुष्यों की प्रजाति होमो सेपियंस के पास एक बेहतर और बड़ा दिमाग था जिसकी मदद से वो यूरोप के हिमयुग में बचे रह पाए।

इस खोज की वजह से एक बेहद ही अहम बात सामने आयी है की वे इंसान के करीब थे। इससे हमारा दृष्टिकोण भी निएंडरथल मानव के प्रति बदल जाता है।