फुल वॉल्यूम 360° खेल

6 बार की World Champion मैरी कॉम मनप्रीत सिंह के साथ करेंगी Tokyo Olympic में भारत का ध्वजवाहन

tokyo-olympics-2021
Spread It

टोक्यो ओलंपिक खेलों (Tokyo Olympic Games) दो दिनों में शुरु होने वाला है। खेलों के इस महाकुंभ में पूरा भारत (India) अपने खिलाड़ियों के लिए चीयर कर रहा है। सोशल मीडिया से लेकर पूरे देश से भारतीय दल को जोरदार समर्थन मिल रहा है। सभी खिलाड़ी टोक्यो में भारत का झंडा बुलंद करने के लिए पहुंच चुके हैं और प्रैक्टिस में जमकर पसीना बहा रहे हैं। इन्हीं खिलाड़ियों में से एक हैं विश्व चैंपियन एम सी मैरी कॉम (World Champion MC Mary Kom)। मैरी कॉम लाइट फ्लाइवेट एमैच्योर बॉक्सर हैं और वो भारत की पहली ऐसी महिला मुक्केबाज हैं, जिन्होंने वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप (World Boxing Championship) का खिताब छह बार जीता है। वो दुनिया की एकमात्र ऐसी मुक्केबाज हैं, जिन्होंने इसी प्रतियोगिता में आठ मेडल (Medal) जीते हैं।

बता दें, छह बार की वर्ल्ड चैम्पियन मैरी कॉम इस बार के ओलंपिक उद्घाटन समारोह में पुरुष हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह (Manpreet Singh) के साथ भारत की ध्वजवाहक होंगी। मैरी कॉम ने मार्च 2020 में एशिया/ओशिनिया क्वालिफायर के सेमीफाइनल में पहुंचने के साथ ही टोक्यो ओलंपिक क्वालीफाई किया था। उन्होंने क्वार्टर फाइनल में 51 किग्रा वर्ग में इटली (Italy) की जिओर्डाना सोरेंटिनो (Giordana Sorrentino) को विभाजित फैसले के साथ हराया था।

बॉक्सिंग की प्रेरणा

शुरुआत में एथलेटिक्स में रुचि रखने वाली मणिपुर की मैरी कॉम ने दिग्गज मुक्केबाज डिंग्को सिंह (Dingko Singh) से प्रेरणा प्राप्त कर इस खेल में कदम रखा था। लंदन ओलंपिक, 2012 (London Olympic 2012) में पहली बार एमेच्योर महिला मुक्केबाज़ी को शामिल किया गया था।

मैरी कॉम की झोली में हैं छह वर्ल्ड चैंपियनशिप

मैरी कॉम ने वर्ष 2002, 2005, 2006, 2008, 2010, 2018 में वर्ल्ड चैंपियनशिप का खिताब जीता था। वर्ष 2001 में इसी प्रतियोगिता में सिल्वर मेडल (Silver Medal) तो वर्ष 2019 में ब्रॉन्ज मेडल (Bronze Medal) अपने नाम किया था। मैरी भारत की एकमात्र महिला बॉक्सर हैं, जिन्होंने 2012 लंदन ओलंपिक के लिए क्वालीफाई किया था और ब्रॉन्ज मेडल भी जीता था। यह उनका दूसरा समर ओलंपिक (Summer Olympic) होगा।

ऐसे जीता था मेडल

2012 लंदन ओलंपिक में मैरी कॉम का पहला मुकाबला पोलैंड की कारोलिना मिखालचुक के खिलाफ था। इस मैच में मैरी कॉम ने अपने शानदार फुटवर्क का प्रदर्शन करते हुए प्रतिद्वंदी मुक्केबाज को 19-14 से हराकर क्वार्टर-फाइनल में प्रवेश किया था। इसके बाद मेरी कोम का सामना ट्यूनीशिया की मरौआ रहली से हुआ था। शुरुआत में परेशानी के बाद भी उन्होंने अपने शानदार हुक से उन्हें मात दी जिसके बाद वह सेमीफाइनल में पहुंच गईं। इस स्पर्धा के सेमीफाइनल मुकाबले में एमसी मैरी कॉम को ब्रिटेन की निकोला एडम्स ने 11-6 से हराया था। इसके बाद कांस्य पदक वाले मैच में 51 किग्रा वर्ग में मैरीकॉम ने ब्रॉन्ज मेडल जीता।

मैरी कॉम की उपलब्धियां

1.विश्व चैंपियनशिप

स्वर्ण पदक – पिनवेट, 2002 अंताल्या

स्वर्ण पदक – पिनवेट, 2005 पोडॉल्स्क

स्वर्ण पदक – पिनवेट, 2006 नई दिल्ली

स्वर्ण पदक – पिनवेट, 2008 निंगबो सिटी

स्वर्ण पदक – लाइट फ्लाईवेट, 2010 ब्रिजटाउन

स्वर्ण पदक – लाइट फ्लाईवेट, 2018 नई दिल्ली

रजत पदक – लाइट फ्लाईवेट, 2001 स्क्रैंटन

कांस्य पदक – फ्लाईवेट, 2019 उलान-उडे

2.एशियन गेम्स

स्वर्ण पदक – फ्लाईवेट, 2014 इंचियोन

कांस्य पदक – फ्लाईवेट, 2010 गुआंगजो

3.एशियाई चैंपियनशिप

स्वर्ण पदक – पिनवेट, 2003 हिसार

स्वर्ण पदक – पिनवेट, 2005 काऊशुंग

स्वर्ण पदक – पिनवेट, 2010 अस्ताना

स्वर्ण पदक – फ्लाईवेट, 2012 उलानबटार

स्वर्ण पदक – लाइट फ्लाईवेट, हो ची मिन्ह सिटी

रजत पदक – पिनवेट, 2008 गुवाहाटी

रजत पदक – फ्लाईवेट, 2021 दुबई

4.राष्ट्रमंडल खेल

स्वर्ण पदक – लाइट फ्लाईवेट, 2018 गोल्ड कोस्ट

5.एशियन इंडोर गेम्स

स्वर्ण पदक – पिनवेट, 2009 हनोई

मैरी कॉम को 25 अप्रैल 2016 को उस समय भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति ने उन्हें राज्य सभा का सदस्य बनाया था। मैरी कॉम को वर्ष 2003 में अर्जुन पुरस्कार (Arjun Award) और वर्ष 2006 में पद्मश्री (Padmshree) से सम्मानित किया गया। इसके बाद वर्ष 2009 में उन्हें भारत का सर्वोच्च खेल सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार (Rajiv Gandhi Khel Ratan Award) से पुरस्कृत किया गया।

टोक्यो ओलंपिक में इन पर टिकी होगी भारत की नजर 

टोक्यो ओलंपिक में भारत के पांच पुरुष और चार महिला मुक्केबाज 24 जुलाई से सूमो कुश्ती स्थल रियोगोकु कोकुजिकान में अपना दमखम दिखाएंगे। भारत की तरफ से मैरी कॉम ( 51 किलोग्राम भारवर्ग), लवलीना बोरगेहन (69 किलोग्राम भारवर्ग), पूजा रानी (75 किलोग्राम भारवर्ग), सिमरनजीत कौर (60 किलोग्राम भारवर्ग) महिला वर्ग में देश का प्रतिनिधित्व करेंगी।

वहीं पुरुष वर्ग में विकास कृष्ण (69 किलोग्राम भारवर्ग), आशीष कुमार (75 किलोग्राम भारवर्ग), सतीश कुमार (91 किलोग्राम भारवर्ग), अमित पंघाल (52 किलोग्राम भारवर्ग) , मनीष कौशिक (63 किलोग्राम भारवर्ग) में देश का प्रतिनिधित्व करेंगे।