इवेंट

नीले चाँद के इस पवित्र शाम की है खास पहचान

हैलोवीन शब्द का अर्थ है hallowed evening’ और ‘holy evening’ मतलब की ‘पवित्र शाम’। हैलोवीन एक प्राचीन सेल्टिक त्योहार है, जिसे यूरोपीय देशों और अमेरिका में फसल के अंतिम दिन मनाया जाता है। इस स्पूकी त्योहार का इतिहास 2,000 वर्षों से अधिक पुराना है। इस दिन को कुछ देशों में All Saints’ Eve के रूप में भी जाना जाता है। दुनिया भर में हर साल 31 अक्टूबर को हेलोवीन मनाया जाता है।

हैलोवीन ज्यादातर पश्चिमी ईसाइयों और गैर-ईसाइयों द्वारा मनाया जाता है जहां संत, शहीद और वफादार दिवंगत विश्वासियों को याद किया जाता है। पश्चिमी देशों में हेलोवीन पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए मनाया जाता है। वे लोग संतों का सम्मान करते हैं और उन आत्माओं के लिए प्रार्थना करते हैं जो अभी तक स्वर्ग नहीं पहुंची हैं। प्राचीन गेल्‍स के लोगों का विश्वास है कि अक्टूबर 31 की रात को जीवित और और मृतक के बीच की सीमा की यह रात होती है।

यूरोप और संयुक्त राज्य अमेरिका के लोग इस त्योहार को बड़ी धूमधाम से मनाते हैं। इस दिन हैलोवीन गतिविधियों में ट्रिक-या-ट्रीटिंग, हैलोवीन कॉस्टयूम पार्टियों में भाग लेना, कद्दू को तराशना, शरारत करना, डरावनी जगहों का दौरा करना, डरावनी कहानियां बताना और डरावनी फिल्में देखना शामिल हैं। इस त्योहार के दौरान अलग- अलग वेशभूषा और मुखौटा पहनकर बुरी आत्माओं की नकल कर उनको शांत कराने की मान्‍यता है।

नॉर्थन लैटिटूड वाले देशों के लिए, यह दिन गर्मियों के अंत और ठंड और अंधेरे सर्दियों की शुरुआत के बारे में बताता है। हैलोवीन के दौरान कद्दू की नक्काशी बहुत आम है। यह अभ्यास में इसलिए आया, क्योंकि हार्वेस्टिंग और यह दिन, दोनों, वर्ष में एक ही समय के दौरान पड़ता है। इन वर्षों में, लोगों ने कद्दू को लाइट करना शुरू कर दिया और इस तरह यह हैलोवीन पर आवश्यक हो गया। यह हैलोवीन वास्तव में बहुत खास है क्योंकि लोग नीले चाँद को देख सकेंगे। हैलोवीन हर साल आता है, लेकिन इस साल यह निश्चित रूप से ‘once in a blue moon’ है।