एजुकेशन

Static GK 17th May 2022

Static-GK-17th-May
Share Post

1.हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत की किसी रचना में, …………….. रचना के द्वितीय भाग को निर्दिष्ट करता है।
(A) मुरकी
(B) आरोह
(C) मुखड़ा
(D) अंतरा
उत्तर : (D) अंतरा

भारतीय शास्त्रीय संगीत या मार्ग, भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है। शास्त्रीय संगीत को ही ‘क्लासिकल म्यूजिक भी कहते हैं। शास्त्रीय गायन सुर-प्रधान होता है, शब्द-प्रधान नहीं। इसमें महत्व सुर का होता है (उसके चढ़ाव-उतार का, शब्द और अर्थ का नहीं)। भारतीय शास्त्रीय संगीत की परम्परा भरत मुनि के नाट्यशास्त्र और उससे पहले सामवेद के गायन तक जाती है। भरत मुनि द्वारा रचित भरत नाट्य शास्त्र, भारतीय संगीत के इतिहास का प्रथम लिखित प्रमाण माना जाता है।

2.निम्नलिखित में से किसने 1858 में झाँसी के किले की घेराबंदी की थी?
(A) सर ह्यूज रोज
(B) सर कॉलिन कैंपबेल
(C) ए०ओ० ह्यूम
(D) जनरल डायर
उत्तर : (A) सर ह्यूज रोज

सर ह्यूज रोज के तहत सेंट्रल इंडिया फील्ड फोर्स ने दिसंबर 1857 के अंत में इंदौर के चारों ओर मैदान ले लिया। इस बल में केवल दो छोटे ब्रिगेड शामिल थे। बॉम्बे प्रेसीडेंसी आर्मी से लगभग आधी सेना भारतीय इकाइयाँ थीं, जो तनावों से उतने ही हद तक प्रभावित नहीं हुई थीं, जो बंगाल सेना को विद्रोह करने के लिए प्रेरित करती थीं। गुलाब का शुरुआत में केवल विभिन्न सशस्त्र अनुचर और राजहंस की सेनाओं द्वारा विरोध किया गया था, जिनके उपकरण और दक्षता कभी-कभी संदेह में होती थी।

3.मध्यकालीन भारत में, ‘ब्रह्मदेय’ शब्द का प्रयोग …………… हेतु किया जाता था।
(A) भूमि के उपहार
(B) कर के प्रकार
(C) स्कूल के प्रकार
(D) व्यापारिक संघ
उत्तर : (A) भूमि के उपहार

भारतीय संस्कृति में ब्राहमणों और धार्मिक संस्थाओं को उपहार या दान देने की समृद्ध परम्परा रही है, जिसे स्वयं के लिए, रिश्तेदारों और पूर्वजों के लिए पुण्य अर्जित करने और पापों के नाश का सबसे भरोसेमंद तरीका माना जाता है। अध्यात्मिक दानों में ब्रहमदेय देवदान और अग्रहार/मंगलम सम्मिलित थे, जिसे शासक राजवेशो द्वारा आरम्भ किया गया था और फिर सरदानों, अधिकारियों और सामंतो द्वारा अपनाया गया। एक अथवा अधिक ब्राहमणों को दान की गयी भूमि को ब्रहमदेय कहा जाता है।

4.महासागरों के अध्ययन से जुड़ा संगठन ‘दि इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजर्वेशन ऑफ नेचर एंड मिशन ब्लू’ द्वारा अंडमान निकोबार एवं लक्षद्वीप द्वीप समूह को ……………….. का नाम दिया गया है।
(A) इन्क्रेडिबल स्पॉट्स
(B) लाइट स्पॉट्स
(C) होप स्पॉट्स
(D) राइज स्पॉट्स
उत्तर : (C) होप स्पॉट्स

‘होप स्पॉट्स’ ऐसे विशिष्ट समुद्रीय पारिस्थितिकी तंत्र वाले क्षेत्र हैं जिन्हें उनके महत्त्वपूर्ण जलीय अधिवासों एवं समुद्रीय जैव विविधता के संदर्भ में संरक्षण की विशेष आवश्यकता है। प्रसिद्ध अमेरिकी समुद्र विज्ञानी सिल्विया अर्ल द्वारा स्थापित वैश्विक पहल ‘मिशन ब्लू’ (Mission Blue) समुद्रीय पारिस्थितिक सुरक्षा हेतु ‘होप स्पॉट्स’ का वैश्विक नेटवर्क तैयार कर रही है। IMPAC-3 के दौरान विश्व के 31 नए क्षेत्रों को ‘होप स्पॉट्स” की सूची में सम्मिलित किया गया है जिसमें भारत के लक्षद्वीप और अंडमान एवं निकोबार के क्षेत्र शामिल हैं।

5.मदिकेरी पर्वतीय स्थल, निम्नलिखित में से किस राज्य में स्थित है?
(A) महाराष्ट्र
(B) केरल
(C) कर्नाटक
(D) तेलंगाना
उत्तर : (C) कर्नाटक

नीलगिरि भारत के पश्चिमी घाट की एक पर्वतमाला है। नीलगिरि पर्वत श्रृंखला का कुछ हिस्सा तमिलनाडु, कर्नाटक और केरल में भी आता है। यहां की सबसे ऊंची चोटी डोड्डाबेट्टा है जिसकी कुल ऊंचाई 2637 मीटर है। यह जिला मुख्यत: पर्वत श्रृंखला के मध्य ही स्थित है। यहां के दर्शनीय स्थलों की बात करें तो नि:संदेह रूप से सबसे पहला नाम ऊटी का ही आता है। ऊटी दक्षिण भारत के सबसे प्रमुख पर्वतीय स्थलों में से एक है। इसके अलावा मुदुमलाई, कूनूर आदि बहुत से खूबसूरत स्थान इस जिले में हैं।

6.हिंदू विधवा पुनर्विवाह अधिनियम निम्नलिखित में से किस वर्ष में पारित किया गया था?
(A) 1818
(B) 1856
(C) 1823
(D) 1885
उत्तर : (B) 1856

हिंदू विधवा पुनर्विवाह अधिनियम, 1856 16 जुलाई 1856 को हिंदू विधवाओं के पुनर्विवाह को वैध बनाता है। हिंदू विधवा पुनर्विवाह अधिनियम लॉर्ड डलहौजी के कार्यकाल के दौरान तैयार किया गया था। यह अधिनियम 1856 में लॉर्ड कैनिंग द्वारा पारित किया गया था। हिंदू विधवाओं के पुनर्विवाह को सबसे पहले लॉर्ड कैनिंग ने वैध बनाया था। इस अधिनियम ने उन सभी विधवाओं को वें सभी अधिकार और विरासत भी प्रदान किये जो उन्हें उसकी पहली शादी के समय मिले थें।

7.’मंडूक शब्दम’ निम्नलिखित में से किस नृत्य शैली का एक मूलतत्व है?
(A) कुचिपुड़ी
(B) मोहिनीअट्टम
(C) ओडिसी
(D) सत्रीया
उत्तर : (A) कुचिपुड़ी

कूचिपूड़ी आंध्र प्रदेश, भारत की प्रसिद्ध नृत्य शैली है। यह पूरे दक्षिण भारत में प्रसिद्ध है। इस नृत्य का नाम कृष्णा जिले के दिवि तालुक में स्थित कुचिपुड़ी गाँव के ऊपर पड़ा, जहाँ के रहने वाले ब्राह्मण इस पारंपरिक नृत्य का अभ्यास करते थे। परम्‍परा के अनुसार कुचिपुडी़ नृत्‍य मूलत: केवल पुरुषों द्वारा किया जाता था और वह भी केवल ब्राह्मण समुदाय के पुरुषों द्वारा। ये ब्राह्मण परिवार कुचिपुडी़ के भागवतथालू कहलाते थे।

8.भारत के प्रसिद्ध स्मारकों के संदर्भ में निम्नलिखित में से कौन-सा युग्म सही है?
(A) लिंगराज मंदिर गुजरात
(B) उनाकोटी गुफा मंदिर मेघालय
(C) श्री हरमंदिर साहिब पंजाब
(D) गोल गुंबज आंध्र प्रदेश
उत्तर : (C) श्री हरमंदिर साहिब पंजाब

श्री हरिमन्दिर साहिब सिख धर्मावलंबियों का सबसे पावन धार्मिक स्थल या सबसे प्रमुख गुरुद्वारा है जिसे दरबार साहिब या स्वर्ण मन्दिर भी कहा जाता है। यह भारत के राज्य पंजाब के अमृतसर शहर में स्थित है। पूरा अमृतसर शहर स्वर्ण मंदिर के चारों तरफ बसा हुआ है। अमृतसर का नाम वास्तव में उस सरोवर के नाम पर रखा गया है जिसका निर्माण गुरु राम दास ने स्वयं अपने हाथों से किया था। यह गुरुद्वारा इसी सरोवर के बीचोबीच स्थित है। इस गुरुद्वारे का बाहरी हिस्सा सोने का बना हुआ है, इसलिए इसे ‘स्वर्ण मंदिर’ के नाम से भी जाना जाता है।

9.निम्नलिखित में से कौन-सा यूनेस्को (UNESCO) की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत है?
(A) नवरोज
(B) रानी की वाव
(C) रम्माण
(D) उपर्युक्त सभी
उत्तर : (D) उपर्युक्त सभी

यूनेस्को (UNESCO) ‘संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक एवं सांस्कृतिक संगठन (United Nations Educational Scientific and Cultural Organization)’ का लघुरूप है। संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक तथा सांस्कृतिक संगठन (यूनेस्को) संयुक्त राष्ट्र का एक घटक निकाय है। इसका कार्य शिक्षा, प्रकृति तथा समाज विज्ञान, संस्कृति तथा संचार के माध्यम से अंतराष्ट्रीय शांति को बढ़ावा देना है। संयुक्त राष्ट्र की इस विशेष संस्था का गठन 16 नवम्बर 1945 को हुआ था।

10.अंगूर में प्रमुख रूप से निम्नलिखित में से कौन-सा अम्ल पाया जाता है?
(A) ऑक्जेलिक अम्ल
(B) लैक्टिक अम्ल
(C) टार्टरिक अम्ल
(D) एस्कॉर्बिक अम्ल
उत्तर : (C) टार्टरिक अम्ल

टार्टरिक अम्ल (Tartaric acid) एक कार्बनिक अम्ल है जो सफेद, क्रिस्टलीय होता है। यह प्राकृतिक रूप से अनेकों फलों (जैसे अंगूर, केला, इमली आदि) में पाया जाता है। यह अम्ल खाद्य पदार्थों में प्रतिऑक्सीकारक के रूप में, तथा अपना विशिष्ट खट्टा स्वाद देने के लिए मिलाया जाता है। टार्टरिक अम्ल, अल्फा-हाइड्रॉक्सी कार्बोसिलिक अम्ल अम्ल है।

Latest News

To Top