एजुकेशन कॉलेज खोज-आविष्कार

KiteCam : अब पतंग के साथ कैमरा भी भरेगा उड़ान

KITE-CAM
Spread It

दुनिया में रोज़ कोई न कोई आविष्कार होते रहते हैं। आपने कैमरे के कई वैराइटीज देखी होगी। आपने ड्रोन कैमरा का भी नाम सुना होगा। पर क्या आपने ऐसा कैमरा देखा है जो पतंग के साथ उड़े ? International Institute of Information Technology, Hyderabad (IIITH) के शोधकर्ताओं ने एक अनोखा ‘KiteCam’ बनाया है। यह ड्रोन और मौजूदा Kite Assisted Photography (KAP) के लिए एक लागत प्रभावी विकल्प है।

वर्तमान KAP संरचनाओं के विपरीत, जिसमें एक कैमरे को मजबूत करने की आवश्यकता होती है, KiteCam नामक यह सिस्टम एक पतंग है जिसमें एक स्लीक कैमरा मॉड्यूल होता है जो इस पतंग से जुड़ा होता है। इसे किसी भी सामान्य पतंग से इमेज को कैप्चर करने के लिए चिपकाया जा सकता है। चूंकि पतंग, उड़ान के लिए हवा पर निर्भर करती है, इसलिए सबसे पहले उड़ान की गतिशीलता का गहन अध्ययन किया गया।

यह सिस्टम, एक कैमरा, एक प्रोसेसर और एक बैटरी का उपयोग करती है। इस सिस्टम में भारी बैटरी होना एक सबसे बड़ी चुनौती थी। इसका मुकाबला करने के लिए, टीम ने दो अल्ट्रा-लाइट और फ्लेक्सिबल lithium polymer बैटरी का इस्तेमाल किया, जिनका वजन केवल 4.65 ग्राम है। 42 ग्राम पर, यह पूरा सेटअप बनाकर तैयार किया गया है।

इस काइटकैम की सबसे अच्छी बात ये है कि चूंकि इसका अधिकांश सरफेस एरिया नॉन-इलेक्ट्रॉनिक है, इसलिए इसे रडार द्वारा पता नहीं लगाया जा सकता है। यह पर्यावरण निगरानी के लिए तापमान, ह्यूमिडिटी, प्रदूषण को रिकॉर्ड करने के लिए सेंसर के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है। KiteCam की वर्तमान कैपेबिलिटीज को और बेहतर करने के लिए, कई योजनाएँ चल रही हैं।

Happy Birthday Dilip Joshi (Jethalal) : एक साल तक रहे बेरोजगार, जानें उनके जीवन से जुड़े कुछ अजब-गजब किस्से

Featured