एजुकेशन

नए साल में 6535 शिक्षकों की होगी बहाली, Central Universities में प्रोफेसर के खाली पदों को 3 महीने में भरा जायेगा, देखिये डिटेल

Teachers-bahali-1
Share Post

PATNA : देश के सेंट्रल यूनिवर्सिटी शिक्षकों के खाली पड़े पदों को भरने की कवायद तेज हो गई है. मार्च 2022 तक केंद्रीय विश्वविद्यालयों (Central Universities) में 6535 शिक्षकों की बहाली की जाएगी. इसके लिए सरकार ने काम शुरू कर दिया है. केंद्रीय विश्वविद्यालयों में शिक्षकों के खाली पदों को भरने के लिए शिक्षा मंत्रालय ने और रफ्तार दी है.

सेंट्रल यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर के खाली पदों को जल्द से जल्द भरा जायेगा. मार्च 2022 तक शिक्षकों के ज्यादातर खाली पदों को भरने का लक्ष्य तय किया है. कहा जा रहा है कि नए सेशन की शुरुआत से पहले इन पदों पर बहाली हो जाएगी. फिलहाल इसे लेकर ज्यादातर केंद्रीय विश्वविद्यालयों में तेजी से काम शुरू हो गया है और भर्ती के लिए विज्ञापन जारी कर दिए गए हैं.

आपको बता दें कि केंद्रीय विश्वविद्यालयों में लगभग साढ़े 6 हजार से अधिक पद खाली हैं. हाल ही में यह जानकारी केन्द्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने संसद में दी थी. मंत्री ने राज्यसभा में एक लिखित उत्तर में कहा कि कुल 10,814 रिक्तियों में से 6,535 इग्नू सहित केंद्रीय विश्वविद्यालयों में, 403 आईआईएम में और 3,876 आईआईटी में पद खाली हैं.

गौरतलब हो कि देश में मौजूदा समय में करीब 50 केंद्रीय विश्वविद्यालय है. इनमें अकेले शिक्षकों के ही 65 सौ से ज्यादा पद खाली है. इनमें प्रोफेसर के करीब 1400 पद, एसोसिऐट प्रोफेसर के 2400 पद, असिस्टेंट प्रोफेसर के करीब 2400 पद है. इसके साथ ही इंदिरा गांधी केंद्रीय मुक्त विश्वविद्यालय में भी शिक्षकों के करीब 150 पद खाली है.

ये बात निकल कर सामने आ रही है कि केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के अंदर ही इस पूरी प्रक्रिया की निगरानी के लिए भी एक टीम लगाई गई है, जो विश्वविद्यालयों की सप्ताहिक आधार पर प्रगति को जांच रही है. इसके साथ ही शिक्षा मंत्रालय ने सभी केंद्रीय शिक्षण संस्थानों में आरक्षण श्रेणी के बैकलाग के खाली पड़े पदों को सितंबर 2022 तक हर हाल में भरने के भी निर्देश दिए है.

केंद्रीय विश्वविद्यालयों में शिक्षकों के बड़े पैमाने पर खाली पदों को भरने का यह अभियान केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के निर्देश के बाद शुरू हुआ है. वैसे तो उन्होंने इन पदों को 30 नवंबर तक ही भरने के निर्देश दिए थे, लेकिन विश्वविद्यालयों में शिक्षकों के खाली पदों को भरने की एक प्रक्रिया है. जिसके कारण इनमें थोड़ा समय लगा, लेकिन मंत्रालय के मुताबिक अब तेजी से यह आगे बढ़ी है.

Latest News

To Top