एजुकेशन नोटिस बोर्ड

इस दिन तक आएंगे CBSE 12वीं के रिजल्ट, सरकार ने बताया रिजल्ट का मूल्यांकन नीति

Students 1
Spread It

कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण CBSE और ICSE की 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया था। जिसके बाद Supreme Court ने सरकार और CBSE को बारवी रिजल्ट के मूल्यांकन का फार्मूला पूछा था जिसके लिए 14 दिनों का समय दिया गया था। अब सरकार की तरफ से CBSE ने Supreme Court में सुनवाई के दौरान सरकार की ओर से 12वीं का रिजल्ट तैयार करने का फॉर्मूला बताया। सरकार की ओर से AG (अटॉर्नी जनरल) ने 12वीं के रिजल्ट का फॉर्मूला कोट में सुनवाई के दौरान बताया।

कोर्ट में सुनवाई के दौरान 12वीं रिजल्ट के मूल्यांकन की नीति बताते हुए अटॉर्नी जनरल ने कहा कि इस तरह की परिस्थिति पहले कभी नहीं आई थी। मूल्यांकन नीति बताते हुए अटॉर्नी जनरल ने बताया कि CBSE ने 10वीं, 11वीं और 12वीं के Pre-Board के रिजल्ट को लिया है। 10वी के 5 विषय में से 3 विषय के सबसे अच्छे मार्क्स लिए जाएंगे।

क्या है रिजल्ट का फॉर्मूला

10वीं से 30% (5 विषयों में से टॉप तीन विषय, जिनमें सबसे ज्यादा नंबर आए हों) 11वीं से 30% (टॉप तीन विषय, जिनमें सबसे ज्यादा नंबर आए हों) और 12वीं प्री बोर्ड से 40% अंक दिया जाएगा (टॉप तीन विषय, जिनमें सबसे ज्यादा नंबर आए हों)।

आपको बता दें 4 जून 2021 को CBSE ने Evaluation Criteria तय करने के लिए 13 सदस्यीय कमेटी का गठन किया था। इस कमेटी को 12वीं रिजल्ट के मूल्यांकन की नीति तय करने के लिए 10 दिनों का समय दिया गया था। साथ ही सुनवाई के दौरान सरकार की तरफ से यह भी कहा गया कि आने वाले 31 जुलाई को CBSE 12वीं का रिजल्ट घोषित कर दिया जाएगा। और अगर बच्चे इस रिजल्ट से संतुष्ट नहीं है तो छात्र अपील कर सकते हैं।