एजुकेशन

Bihar Teacher Job 2022 : BPSC ने जारी की नई नोटिस, हेडमास्टर और प्रधान शिक्षकों की बहाली में बदलाव

BPSC
Share Post

PATNA : बिहार (Bihar) में प्रारंभिक विद्यालयों में 40,506 प्रधान शिक्षकों और माध्यमिक-उच्च माध्यमिक विद्यालयों में 6,421 प्रधानाध्यापकों की नियुक्ति को लेकर बीपीएससी की ओर से एक ताजा नोटिस जारी किया गया है. बिहार लोक सेवा आयोग के मुताबिक प्राइवेट और सरकारी शिक्षकों के लिए बना अलग-अलग नियम बनाये गए हैं. दरअसल इनकी उम्र सीमा में बदलाव किया गया है.

बिहार लोक सेवा आयोग के संयुक्त सचिव सह-परीक्षा नियंत्रक की ओर से जारी नोटिस के मुताबिक बिहार के उच्च माध्यमिक विद्यालयों में प्रधानाध्यापक के पदों पर नियुक्ति के लिए पंचायती राज संस्थान और नगर निकाय संस्थानों में कार्यरत शिक्षकों के लिए न्यूनतम और अधिकतम आयु सीमा का बंधेज नहीं है, लेकिन एक अगस्त 2021 को अधिकतम उम्र 60 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए.

वहीं दूसरी तरफ, सी.बी.एस.ई., आई.सी.एस.ई. और बी.एस.ई.बी. से संबद्धता प्राप्त विद्यालयों में पढ़ाने वाले शिक्षकों के लिए उम्र सीमा तय की गई है. इनकी उम्र सीमा 01.08.2021 को न्यूनतम 31 वर्ष होनी चाहिए. जबकि एक अगस्त 2021 को अनारक्षित (पुरूष) के लिए अधिकतम उम्र 47 वर्ष होनी चाहिए.

प्राइवेट स्कूलों में कार्यरत पिछड़ा वर्ग और अत्यंत पिछड़ा वर्ग (पुरुष एवं महिला) और अनारक्षित (महिला) के लिए अधिकतम उम्र 50 वर्ष और अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति (पुरूष एवं महिला) के लिए अधिकतम उम्र – 52 वर्ष होनी चाहिए. हालांकि ताजा नोटिस के अनुसार एक अगस्त 2021 को इनकी उम्र अधिकतम 60 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए.

आपको बता दें कि बिहार के उच्च माध्यमिक विद्यालयों में पहली बार 6421 प्रधानाध्यापकों की नियुक्ति परीक्षा के आधार पर होगी. इसमें महिला उम्मीदवारों के लिए 2179 पद सुरक्षित होंगे. बिहार लोक सेवा आयोग को परीक्षा कराने की जिम्मेवारी दी गई है. आयोग की ओर से परीक्षा संबंधित पूरी जानकारी वेबसाइट पर उपलब्ध है. ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 28 मार्च तक है.

उच्च माध्यमिक विद्यालय में प्रधानाध्यपक बनने के लिए कम से कम आठ वर्ष कार्य अनुभव होना चाहिए. इसके अलावा माध्यमिक विद्यालयों में दस वर्षों का अनुभव जरूरी होगा. साथ ही साथ सीबीएसई, बीएसईबी और आईसीएसई से स्थायी संबद्धता प्राप्त माध्यमिक विद्यालय में 12 वर्ष रेगुलर सेवा होना जरूरी होगा. सरकार की ओर से प्रधानाध्यापकों के लिए वेतनमान 35 हजार एवं समय पर अन्य भत्ते शामिल होंगे.

प्रधानाध्यपकों की नियुक्ति के लिए लिखित परीक्षा का आयोजन किया जाएगा. परीक्षा में 150 प्रश्न पूछे जाएंगे. सभी प्रश्न बहुविकल्पीय होंगे. इसमें सामान्य अध्ययन से 100 अंक एवं बीएड कोर्स से संबंधित 50 अंकों की परीक्षा होगी. यह परीक्षा ओएमआर शीट पर ली जाएगी. प्रत्येक प्रश्नों के लिए एक अंक निर्धारित है, वहीं प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 0.25 अंक काटे जाएंगे. प्रश्न अनुत्तरित होने पर शून्य अंक देय होगा. परीक्षा की अवधि दो घंटे की होगी. इसमें साक्षात्कार (इंटरव्यू) नहीं लिया जाएगा.

Latest News

To Top