एजुकेशन

Bihar में टीका लेकर एग्जाम देंगे मैट्रिक और इंटर के स्टूडेंट, कोरोना काल में ही होगी परीक्षा

students
Share Post

PATNA : बिहार (Bihar) में कोरोना संक्रमण के बीच इंटर और मैट्रिक की परीक्षाओं का आयोजन किया जायेगा. सूबे में 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा (10th Exam News) को लेकर तैयारियां जोरों पर हैं. कोविड के दौर में नीतीश सरकार एक विशेष तैयारी के साथ बच्चों के परीक्षाओं का आयोजन करने जा रही है. इसे लेकर शुक्रवार को सभी जिलों के जिलाधिकारी (DM) और जिला शिक्षा पदाधिकारी (DEO) को पत्र लिखा गया है.

शुक्रवार को बिहार शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने सभी जिलों के डीएम और डीईओ को पत्र लिखा. इस पत्र में उन्होंने कहा कि, “कोविड-19 संक्रमण पर व्यापक नियंत्रण के लिए कई निर्णय लिए गए हैं. सभी विद्यालय, महाविद्यालयों, शिक्षण, प्रशिक्षण और कोचिंग संस्थानों को उनके छात्रावास सहित तत्काल प्रभाव से 6 फ़रवरी 2022 तक बंद रखने का फैसला लिया गया है. लेकिन उनके कार्यालय शिक्षक और शिक्षकेत्तर कर्मचारी 50 प्रतिशत उपस्थिति के साथ खोले जा सकेंगे. इस दौरान बच्चों के लिए ऑनलाइन शिक्षण कार्य संचालित किये जा सकेंगे.”

अपर मुख्य सचिव के पत्र में आगे लिखा गया है कि, “ऑनलाइन माध्यम से शिक्षण की व्यवस्था को प्राथमिकता दिया जायेगा और शैक्षणिक संस्थानों के 15 से 18 वर्ष के छात्र और छात्राओं कोविड-19 का टीका लेना सुनिश्चित करेंगे. सभी जिलों के जिला शिक्षा पदाधिकारियों को यह निर्देश दिया जाता है कि शैक्षणिक संस्थानों के 15 से 18 आयु वर्ग के छात्र और छात्राओं के लिए स्वास्थ्य विभाग से समन्वय कर टीकाकरण की विशेष व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे.” यानि कि डीईओ को यह आदेश दिया गया है कि 15 से 18 साल वालों को वो टीका दिलवाएं.

15 वर्ष से 18 साल आयु वालों बच्चों के टीकाकरण के निर्देशों का अनुपालन संबंधित जिला के जिला पदाधिकारी के द्वारा किया जायेगा. इसके कार्यान्यवन हेतु संबंधित जिला के जिला शिक्षा पदाधिकारी और सिविल सर्जन-सह मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी का सहयोग लिया जायेगा.

आपको बता दें कि बीते दिन बिहार गृह विभाग की ओर से यह आदेश जारी किया गया था कि अगले महीने में 6 फरवरी तक राज्य के सभी स्कूल, कॉलेज, कोचिंग, ट्रेनिंग कॉलेज और हॉस्टल बंद रहेंगे. लेकिन इस दौरान केंद्र सरकार और राज्य सरकार के आयोग द्वारा आयोजित नियोजन संबंधी परीक्षाओं और विभिन्न विद्यालय बोर्डों द्वारा आयोजित परीक्षाओं का आयोजन किया जायेगा.

गौरतलब है कि बिहार में 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा को लेकर तैयारियां तेजी से आगे बढ़ रही हैं. स्कूलों को निर्देश है कि वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट के बिना एडमिट कार्ड इश्यू नहीं किया जायेगा. परीक्षा में बैठने वाले छात्रों के लिए वैक्सीन की पहली डोज का सर्टिफिकेट दिखाना जरूरी होगा. हालांकि इस मामले में शिक्षा विभाग ने स्पष्ट किया है कि जिन छात्रों की उम्र 15 साल से कम है, उन्हें वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है.

ऐसा इसलिए क्योंकि 15 से 18 साल के आयुवर्ग के छात्र ही वैक्सीन ले सकते हैं. इस निर्देश के बाद ऐसे छात्रों और परिजनों की टेंशन कुछ कम जरूर हुई है. इससे पहले स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी निर्देश में कहा गया था कि बोर्ड परीक्षा शुरू होने से पहले ज्यादा से ज्यादा छात्रों का टीकाकरण की योजना है. इसके लिए सिविल सर्जन, डीएम और जिला शिक्षा अधिकारियों सहित अन्य संबंधित अधिकारियों को निर्देश जारी कर दिए गए.

आपको बता दें कि बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड (BSEB) 1 से 13 फरवरी तक इंटरमीडिएट की परीक्षा और 17 से 24 फरवरी तक मैट्रिक की परीक्षा आयोजित होने वाली है. बिहार बोर्ड के लगभग 13.4 परीक्षार्थी इंटरमीडिएट परीक्षा और 16.48 लाख छात्र-छात्राएं मैट्रिक के लिए उपस्थित होंगे.

Latest News

To Top