एजुकेशन

Bihar : अधर में लटकी छात्राओं की प्रोत्साहन राशि, जानिए कबतक पैसा देगी सरकार

bseb
Share Post

PATNA : बिहार (Bihar) सरकार ने साल 2018 से छात्रों को प्रोत्साहन राशि योजना शुरू किया था. ये लाभ 12 हज़ार स्नातक उत्तीर्ण छात्राओं को मिलना है. राशि की उपलब्धता के बाद भी स्नातक उत्तीर्ण छात्राओं को पिछले लगभग एक महीने से प्रोत्साहन राशि नहीं मिल पा रही है. कारण डीडीओ का डिजिटल सिग्नेचर बनने में हो रही देर है. छात्राएं प्रोत्साहन राशि के लिए लगातार मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री, अपर मुख्य सचिव सहित विभागीय अधिकारीयों के पास शिकायत कर रही हैं.

विभिन्न विश्विद्यालयों से उत्तीर्ण लगभग 12 हजार छात्राओं को प्रोत्साहन राशि हो चुकी है. डीडीओ का डिजिटल सिग्नेचर मिलते ही छात्राओं के खाते में राशि जाएगी. प्रोत्साहन योजना की राशि के लिए सरकार ने लगभग 500 करोड़ का बजट प्रावधान कर दिया है.

वहीं स्नातक उत्तीर्ण 2 लाख से अधिक छात्राओं विश्विद्यालयों से सर्टिफिकेट जाँच रिपोर्ट भी नहीं मिली है. पिछले 3 सत्रों 2015-18, 2016-19 और 2017-20 में उत्तीर्ण 2.27 लाख छात्राओं के आवेदन विश्विद्यालयों को जाँच के लिए भेजे गए हैं. इसमें सभी छात्राओं की आधार वेरिफिकेशन पूरी हो चुकी है. 2.27 लाख में से 19 हजार छात्राओं के सर्टिफिकेट जांच कर विभाग को रिपोर्ट ऑनलाइन माध्यम से दे दी गई है, लेकिन बाकि आवेदन जांच के लिए पेंडिंग है.

छात्राओं को उच्च शिक्षा में बढ़ावा देने के लिए इंटरमीडिएट और ग्रेजुएशन के लिए कन्या प्रोत्साहन योजना शुरू की गई थी. किसी भी संकाय में ग्रेजुएशन पास करने वाली छात्राओं को 25- 25 हजार रूपए की दर से प्रोत्साहन राशि दी जाती है. इस योजना को अप्रैल 2021 के बाद ग्रेजुएशन पास करने वाली छात्राओं को दुगुनी राशि दी जाएगी. इंटरमीडिएट छात्राओं को २भी दुगुनी राशि दी जानी है.

Latest News

To Top