खेल

Ind vs SA : टीम इंडिया के पास इतिहास रचने का मौका, इस क्रिकेटर का बल्ला चलना जरूरी

team-india
Share Post

DESK : Ind vs SA का मुकाबला काफी दिलचस्प होने वाला है. भारतीय टीम 3 टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए दक्षिण अफ्रीका पहुंच चुकी है. लेकिन दक्षिण अफ्रीका का यह दौरा भारत के लिए आसान नहीं होने वाला है. भारतीय टीम का रिकॉर्ड यहां अच्छा नहीं रहा है. Team India 1992 से अब तक अफ्रीकी जमीन पर एक भी टेस्ट सीरीज नहीं जीत पाई है. जबकि इस दौरान भारत ने यहां 7 टेस्ट सीरीज खेली. इसमें से 6 में भारत को हार का मुंह देखना पड़ा. जबकि एक ड्रॉ रही. मतलब सीरीज जीतने का ख्वाब अब तक अधूरा है.

वहीं विराट कोहली की अगुवाई में आई टीम इंडिया दक्षिण अफ्रीका दौरे पर है. इससे पहले वनडे की कप्तानी को हुई खींचतान ने खूब सुर्खियों बटोरीं है. हालांकि इसको लेकर कोहली ने साफ बताया दिया है कि इसका असर क्रिकेट मैदान पर नहीं पड़ेगा. अगर India और South Africa के बीच हुए मुकाबलों की बात करें तो भारत ने पहली सीरीज 2010 में ड्रॉ कराई थी.

तब महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) टीम के कप्तान थे. उस दौरे पर टीम इंडिया ने डरबन में हुआ दूसरा टेस्ट 87 रन से जीता था. जबकि सेंचुरियन में हुआ पहला टेस्ट दक्षिण अफ्रीका जीता था और केपटाउन में हुआ तीसरा टेस्ट ड्रॉ रहा था. वहीं 3 साल पहले भारतीय टीम विराट कोहली (Virat Kohli) की कप्तानी में दक्षिण अफ्रीका दौरे पर गई थी. उस समय भी दक्षिण अफ्रीका ने पहले 2 टेस्ट जीतकर ही सीरीज पर कब्जा जमा लिया था.

भारत ने जोहानिसबर्ग में हुआ तीसरा टेस्ट जीतकर क्लीन स्वीप रोका था. उस टेस्ट की पहली पारी में जसप्रीत बुमराह ने 5 और दूसरी में मोहम्मद शमी ने भी इतने ही विकेट लिए थे. वहीं 1991-92 में भारतीय टीम पहली बार दक्षिण अफ्रीका दौरे पर गई थी. यह पहला मौका था, जब दोनों टीमों के बीच दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट सीरीज खेली गई थी. बीते 29 सालों में टीम इंडिया 7 बार इस अफ्रीकी देश के दौरे पर जा चुकी है. लेकिन सफलता नहीं मिली है.

उसके बाद 2006 में पहली बार राहुल द्रविड़ की कप्तानी में टीम इंडिया ने दक्षिण अफ्रीका में अपना पहला टेस्ट मैच जीता था. यह जीत इसलिए भी खास थी. क्योंकि भारत ने टेस्ट सीरीज के पहले मैच में जीत दर्ज की थी. इस मैच में श्रीसंत भारत की जीत के हीरो थे. उन्होंने मैच में कुल 8 विकेट झटके थे. हालांकि, भारतीय टीम पहला टेस्ट जीतने के बाद बाकी दोनों टेस्ट हार गई थी और सीरीज जीतने का सपना अधूरा ही रह गया था.

अगर भारतीय टीम को इतिहास बदलना है तो कोहली का बल्ला चलना जरुरी है. विराट ने यहां 5 टेस्ट में 55 से ज्यादा के औसत से 558 रन बनाए हैं. कोहली ने दक्षिण अफ्रीका की उछाल भरी पिच पर 2 शतक और इतने ही अर्धशतक ठोके हैं.इसके बाद चेतेश्वर पुजारा का नंबर आता है. पुजारा दक्षिण अफ्रीका में इस बल्लेबाज ने 7 टेस्ट में 411 रन बनाए हैं. पुजारा भी यहां एक शतक लगा चुके है.

Latest News

To Top