विज्ञान-अंतरिक्ष

Virgin Galactic : भारतीय मूल की बेटी ने भरा अंतरिक्ष में सफल उड़ान

sirisha-bandla
Spread It

भारतीय मूल की सिरिशा बांदला (Sirisha Bandla) ने अंतरिक्ष में सफल उड़ान भर ली है। वे रिचर्ड ब्रैन्सन (Richard Branson) की स्पेस कंपनी वर्जिन गैलेक्टिक (Virgin Galactic) के अंतरिक्ष यान VSS Unity में बैठकर अंतरिक्ष की सैर पर रवाना हुई थी। इस क्रू ने एक सफल अंतरिक्ष में उड़ान पूरा किया। पृथ्वी पर लौटने के बाद, ब्रैनसन ने अंतरिक्ष में अपनी उड़ान का जश्न मनाते हुए भारतीय-अमेरिकी चालक दल के सदस्य सिरीशा बंदला को अपने कंधों पर उठा लिया।

भारतीय-अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री सिरीशा बंदला का कहना है कि “मैं अभी भी वहीं हूं, लेकिन यहां आकर बहुत खुशी हो रही है। मैं अविश्वसनीय से बेहतर शब्द के बारे में सोचने की कोशिश कर रही थी, लेकिन यही एकमात्र शब्द है जो मेरे दिमाग में आ सकता है। पृथ्वी के दृश्य को देखना इतना जीवन-परिवर्तन है, लेकिन रॉकेट मोटर को भी बढ़ावा देता है। अंतरिक्ष और उसके पीछे की पूरी यात्रा बस अद्भुत है।”

वे न्यू मैक्सिको रेगिस्तान के ऊपर लगभग 88 किलोमीटर की ऊँचाई तक पहुँच गए । पृथ्वी पर वापस ग्लाइडिंग करने से पहले चालक दल ने कुछ मिनटों के भारहीनता का अनुभव किया। स्पेसपोर्ट से लॉन्च से लैंडिंग तक का कुल समय करीब 90 मिनट का था। VSS Unity करीब चार मिनट तक धरती की निचली कक्षा में रही।

सिरीशा बांदला अंतरिक्ष में उड़ान भरने वाली भारत में जन्मी दूसरी महिला बन गयी हैं। वह आंध्र प्रदेश के गुंटूर में जन्मीं और टेक्सास के ह्यूस्टन में पली-बढ़ी हैं। अंतरिक्ष यात्री नंबर 4 के रूप में, बांदला की भूमिका एक रिसर्चर एक्सपीरियंस की होगी। वह वर्जिन गैलेक्टिक कंपनी के गवर्नमेंट अफेयर्स एंड रिसर्च ऑपरेशंस की वाइस प्रेसीडेंट हैं।