चर्चित व्यक्ति महत्वपूर्ण-दिवस-सप्ताह-वर्ष

Pandit jawaharlal nehru और आज का इतिहास

jawaharlal-nehru
Spread It

भले ही Vasco de Gama ने भारत का खोज किया था। लेकिन सही मायने में भारत 15 अगस्त सन 1947 को बना। इसके पहले कई मुगलों ने, तो कई राजा राजवाड़ों ने इस सोने की चिड़िया कहे जाने वाले धरती पर राज किया है। उसके बाद व्यापार के लिए भारत आए अंग्रेजों ने इसे लकड़ी में लगे दीमक की तरह अंदर ही अंदर खोखला करते हुए अपना पैर पसार लिया। और जब राजा राजवाड़ों ने अंग्रेजो के खिलाफ आवाज उठाई तो उनसे उनका सिंहासन छीन लिया गया। इतिहास 1 दिन में बन जाए यह संभव नहीं लेकिन एक पल में घटे हुए घटना से इतिहास जरूर बनता है। भारत के इतिहास के पन्नों के बीच कुछ पन्ने एक ऐसी शख्सियत के बारे में है जिसने भारत की आजादी के लिए अपना जीवन समर्पित किया। आज का दिन यानी 27 मई उसी व्यक्ति के ऊपर आधारित है। आज ही के दिन इतिहास में कई बड़ी घटनाएं भी क्दर्ज की गई थी।

आज के दिन भारत के इतिहास की बात करें तो देश के पहले प्रधानमंत्री Pandit jawaharlal nehru का निधन इसी रोज़ हुआ था। स्वतंत्रता संग्राम में अपनी अग्रणी भूमिका निभाने के बाद भारत की आजादी के बाद देश के प्रथम प्रधानमंत्री के तौर पर जवाहरलाल नेहरू ने इतिहास के पन्नों में कई उपलब्धियां हासिल की है।

  • जवाहरलाल नेहरू ने व्यस्त राजनीतिक जीवन और संघर्षपूर्ण दिनों में भी अपने लेखन के लिए समय निकाला करते थे। और जेल के नीरस वातावरण को सृजनात्मक बना देते थे।
  • उनकी रचनाएं उन्हें एक विद्वान इतिहासकार और संवेदनशील साहित्यकार के रूप में प्रस्तुत करती है।
  • उनके द्वारा लिखी गई किताब ‘डिस्कवरी ऑफ इंडिया’ (Discovery of India) ने सफलता के नये प्रतिमान स्थापित किए थे।
  • इसी के आधार पर बना ‘भारत एक खोज’ धारावाहिक ने इसे घर घर तक पहुंचाने का काम किया।
  • उन्होंने अपनी आत्मकथा ‘एन आटोबायग्राफी’ (An Autobiography) में अपने जीवन की कहानी खूबसूरत शब्दों से वर्णित किया है।
  • साल 1955 में उन्हें देश के सबसे बड़े सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।
  • पंडित जवाहर लाल नेहरू देश के पहले प्रधानमंत्री थे, जिन्होंने करीब 17 साल देश की कमान संभाली। भारत की आजादी से लेकर उन्होंने अपने अंतिम सांस तक इस पद का कार्यभार संभाला था।
  • साल 1962 में चीन के हाथों भारत को मिली हार उनके कार्यकाल का सबसे बुरा दौर रहा था।
  • 14 नवंबर, 1889 को इलाहाबाद में जन्मे पंडित जवाहरलाल नेहरू ने साल 1964 में खराब तबीयत के कारण 74 साल की उम्र में अपना प्राण त्याग दिया।

इतिहास के पन्नों में आज के दिन और भी कुछ पन्ने जुड़े थे:

1703 : सेंट पीटर्सबर्ग सेंट (Saint Petersburg) की स्थापना। रूस के इतिहास में इस शहर का खास महत्व है और इसे 1917 की महान रूसी क्रांति के गवाह के तौर पर विशेष पहचान मिली।

1908: मौलाना हकीम नुरूद्दीन अहमदिया मुस्लिम समुदाय के पहले खलीफा बने।

1921: ब्रिटेन के नियंत्रण के 84 साल बाद अफगानिस्तान को संप्रभुता मिली।

1927 : चीन के गृह युद्ध में जापानी सेना का दखल।

1941 : जर्मन जंगी जहाज बिस्मार्क को ब्रिटिश नौसेना ने डुबोया था।

1948 : आज ही के दिन भारत में महात्मा गांधी की हत्या का मुकदमा शुरू हुआ था।