चर्चित व्यक्ति फुल वॉल्यूम कॉर्नर महिला संडे वाइब्स

Kashish Sharma : जिगर देख लड़के शर्मा जाये और खूबसूरती देख प्यार हो जाये

Kashish-Sharma-sunday-vibes
Spread It

आपको वो डिज्नी का कार्टून बॉब द बिल्डर याद है। कैसे उसमें बिल्डिंग कांट्रेक्टर बॉब, अपने ग्रुप के साथ मिलकर हर प्रॉब्लम की चुटकी में सॉल्व कर देता था। बॉब और उनका ग्रुप आवश्यकतानुसार रेनोवेशन, कंस्ट्रक्शन, रिपेयर और अन्य प्रोजेक्ट्स में मदद करते थे। खैर, ये तो थी कार्टून की बात लेकिन अब रियल लाइफ में भी हमें बॉब द बिल्डर मिल गया है, सॉरी मिल गयी है। दरअसल, 23 साल की कशिश (Kashish Sharma), समाज की सारी प्रथाओं को तोड़ते हुए इंसपेक्शन इंजीनियर बनी। उन्होंने कंस्ट्रक्शन जॉब के काम को चुना, जिसमें महिलाओं की संख्या न के बराबर ही दिखती है और जिस काम को करने में पुरुषों का तमगा लगा हुआ है।


23 साल की कशिश (Kashish Sharma) , इंडियन रेलवे प्रोजेक्ट के लिए इंसपेक्शन इंजीनियर बनी। कशिश ने अपने करिअर की शुरुआत टेक कोडिंग से की। लेकिन जल्दी ही उन्हें इस बात का अहसास हो गया कि वे इस जॉब का प्रेशर अधिक समय तक नहीं झेल पाएंगी। फिर उन्होंने इलेक्ट्रॉनिक और टेलीकम्युनिकेशंस में जॉब की शुरुआत की। कशिश ने अपने जॉब से महिलाओं के लिए कायम इस धारणा को भी बदला कि वे सिर्फ ऑफिशियल वर्क कर सकती हैं। उन्होंने इस अवधारणा को तोड़ा की महिलाएं सिर्फ एक आरामदायक कुर्सी पर एसी वाले कमरे में ही सबसे अच्छे से काम कर सकती हैं।


उन्होंने कहा की सॉफ्टवेयर का अर्थ जानने से पहले ही उन्हें यह सिखाया गया था कि वह एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहती है। उन्हें, ये बताया गया था कि सिविल और मैकेनिकल इंजीनियरिंग का काम लड़कियों के लिए नहीं है। लेकिन उन्होंने इस धारणा को बदलते हुए इंसपेक्शन इंजीनियरिंग का काम चुना। कशिश खुद को ‘देसी बॉब द बिल्डर’ कहलाना पसंद करती हैं। उन्होंने इस टाइटल के साथ सोशल मीडिया पर एक पोस्ट भी जारी की जिसमें वह हेवी लिफ्टिंग करते हुए दिख रही हैं।


कशिश को इस बात की खुशी है कि अपनी मर्जी से आज वह उस काम को कर रही हैं जिसका सपना उन्होंने बचपन से देखा था। वे सोशल मीडिया के माध्यम से अपनी पोस्ट द्वारा महिलाओं को कंस्ट्रक्शन इंजीनियरिंग बिजनेस जॉइन करने की सलाह देती हैं और इस दिशा में उन्हें जागरूक भी करती हैं। वाकई में कशिश की ये लिक से हटकर अपने काम को चुनने का फैसला काबिल-ए-तारीफ है।