योजना-परियोजना

Ayushman Bharat Digital Mission : अब नहीं होगी इलाज़ के लिए मेडिकल फाइल लेकर दौड़ने की ज़रूरत

modi
Spread It

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (Ayushman Bharat Digital Mission) का शुभारंभ किया। इसके तहत एक ऑनलाइन प्लेटफॉर्म तैयार किया जाएगा, जो डिजिटल स्वास्थ्य इको सिस्टम के अंतर्गत स्वास्थ्य से जुड़े अन्य पोर्टल के परस्पर संचालन को भी सक्षम बनाएगा।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन को अभी छह केंद्र शासित प्रदेशों में पायलट चरण में लागू किया जा रहा है। इस मिशन के तहत लोगों को एक यूनिक डिजिटल हेल्थ आईडी प्रदान की जाएगी, जिसमें व्यक्ति के सभी स्वास्थ्य रिकॉर्ड होंगे। यह कार्ड पूरी तरह से डिजिटल होगा और देखने में आधार कार्ड की तरह ही होगा। इस कार्ड पर एक नंबर मिलेगा, जिसकी मदद से स्वास्थ्य के क्षेत्र में व्यक्ति की पहचान होगी।

इस मिशन के जरिए लोग स्वास्थ्य रिकॉर्ड का आदान-प्रदान करने में सक्षम हो पाएंगे। यह मिशन अब देशभर के अस्पतालों के डिजिटल हेल्थ सॉल्यूशंस को एक-दूसरे से जोड़ेगा। इससे मरीजों को डॉक्टर से दिखाने के लिए मेडिकल फाइल ले जाने से छुटकारा मिलेगा। इसके साथ ही डॉक्टर भी मरीज का यूनिक हेल्थ आईडी देखकर उनकी बीमारियों का पूरा डेटा निकाल लेंगे और फिर इलाज़ शुरू करेंगे।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन की पायलट परियोजना की घोषणा प्रधानमंत्री द्वारा 15 अगस्त, 2020 को लाल किले की प्राचीर से की गई थी। इस मिशन के तहत, हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स रजिस्ट्री (HPR) और हेल्थकेयर फैसिलिटीज रजिस्ट्रियां (HFR), आधुनिक और पारंपरिक चिकित्सा प्रणालियों दोनों ही मामलों में सभी स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के लिए एक कलेक्शन के रूप में कार्य करेंगी।