योजना-परियोजना

इनोवेशन को बढ़ावा देने के लिए जागरूकता कार्यक्रम का हुआ उद्घाटन

Dr-Harsh-Vardhan
Spread It

केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ हर्षवर्धन (Dr Harsh Vardhan) ने इनोवेशन को बढ़ावा देने वाली एक नई योजना के लिए एक जागरूकता कार्यक्रम का उद्घाटन किया है।

इस योजना को प्रचार के लिए एलाइनमेंट और अवेयरनेस कार्यक्रम के रूप में नाम दिया गया है। यह एक Department of Scientific and Industrial Research – Promoting Innovations in Individuals, Startups and MSMEs (DSIR-PRISM) योजना है।

इस कार्यक्रम का उद्घाटन Indian Institute of Technology, (IIT) दिल्ली में वर्चुअल रूप से हुआ।

ऑनलाइन मोड के माध्यम से लगभग 3500 संस्थानों और 50,000 इन्नोवेटर्स, टेक्नोक्रेटों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया।

इस कार्यक्रम का उद्देश्य सभी हितधारकों के विशाल नेटवर्क के माध्यम से DSIR-PRISM योजना के बारे में व्यापक रूप से जागरूकता बढ़ाना और सामाजिक-आर्थिक विकास और समावेशी विकास के लिए नवाचार की दिशा में भविष्य के सहयोग के लिए गुंजाइश और अवसरों की पहचान करना है।

इस कार्यक्रम के गेस्ट ऑफ ऑनर, केंद्रीय शिक्षा राज्य मंत्री ‘संजय धोत्रे’ थे। इस कार्यक्रम का उद्देश्य डायरेक्ट बैंक ट्रांसफर के माध्यम से इन्नोवेटर्स का समर्थन करना है।

यह योजना सस्ती स्वास्थ्य सेवा, पानी, सीवेज मैनेजमेंट, ग्रीन टेक्नोलॉजी, क्लीन एनर्जी, इंडस्ट्रियल रूप से उपयोगी स्मार्ट मैटेरियल्स और धन की बर्बादी जैसे मुख्य टेक्नोलॉजी एरिया के लिए शुरू की गई है।

इस पहल से ग्रामीण आजीविका, समावेशी नवाचार और सामाजिक-आर्थिक लाभ पैदा करने में मदद मिलने की उम्मीद है। प्रोडक्ट की इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी, इनोवेटर की होगी।

इसका अनुदान दो चरणों: Phase I और Phase II में दिया जाएगा। Phase I में अनुदान राशि लगभग 2 लाख रुपये से 20 लाख रुपये और Phase II में अधिकतम 50 लाख रुपये है।

Add Comment

Click here to post a comment