महत्वपूर्ण-दिवस-सप्ताह-वर्ष

Ordnance Factory Day: भारत में यहां रखी गयी थी पहली ऑर्डिनेंस फैक्ट्री की नींव

ordnance-factory-day
Spread It

18 मार्च को Ordnance Factory Day के रूप में मनाया जाता है जो पूरे भारत में प्रदर्शनियों में राइफल्स, बंदूकें, तोपखाने, गोला बारूद आदि को प्रदर्शित करके मनाया जाता है।

➜यह दिन 1801 में कोलकाता के पास कोसीपोर में कोलोनियल भारत में पहली ऑर्डिनेंस फैक्ट्री की फाउंडेशन का स्मरण कराता है।

➜इस दिन को भारत के सशस्त्र बलों के लिए हाई क्वालिटी वाले प्रोडक्ट्स को सुनिश्चित करने के माध्यम से राष्ट्र को ऑर्डिनेंस बोर्ड के समर्पण की पुष्टि करने के लिए एक इवेंट के रूप में माना जाता है।

➜ऑर्डिनेंस फैक्ट्रियों का इतिहास और विकास भारत में ब्रिटिश काल से जुड़ा हुआ है। इंग्लैंड की ईस्ट इंडिया कंपनी ने अपने आर्थिक हित और राजनीतिक पकड़ को बढ़ाने के लिए मिलिट्री हार्डवेयर के निर्माण को एक महत्वपूर्ण तत्व माना।

1775 में ब्रिटिश अधिकारियों ने फोर्ट विलियम, कोलकाता में ऑर्डिनेंस बोर्ड की स्थापना की, जो भारत में आर्मी ऑर्डिनेंस की आधिकारिक शुरुआत का प्रतीक है।

➜उन्होंने 1787 में ईशापुर में 1787 में एक गन पाउडर फैक्ट्री स्थापित की, जिसका उत्पादन 1791 में शुरू हुआ।

1801 में, अंग्रेजों ने कोसीपोर, कोलकाता में गन कैरिज एजेंसी की स्थापना की और 18 मार्च, 1802 को उत्पादन शुरू हुआ।

➜ऑर्डनेंस फैक्ट्री, फील्ड गन फैक्ट्री व स्माल आम्र्स फैक्ट्री में सेना के हथियार बनते हैं।

➜ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड में 41 ऑर्डिनेंस कारखानों, 9 प्रशिक्षण संस्थान, 3 क्षेत्रीय मार्केटिंग केंद्र और 5 क्षेत्रीय सुरक्षा नियंत्रक शामिल हैं, जो पूरे भारत में फैला हुआ है।

➜इसका मुख्यालय आयुध भवन, कोलकाता में है।

Add Comment

Click here to post a comment