महत्वपूर्ण-दिवस-सप्ताह-वर्ष चर्चित व्यक्ति

महात्मा गांधी की 152वीं जयंती आज, राष्ट्रपिता का जीवन नहीं रहा कभी निर्विवाद

Gandhi-Jayanti
Spread It

राष्ट्रपिता कहे जाने वाले महात्मा गाँधी की आज 152वीं जयंती है। पुरे विश्व में आज के दिन को अहिंसा दिवस के रूप में मनाया जाता है। महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था। 30 जनवरी 1948 को नाथूराम गोडसे ने उनकी हत्‍या गोली मारकर कर दी थी।
महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) का जन्म काबा गांधी और पुतलीबाई के सबसे छोटे बेटे मोनिया के रूप में हुआ था। वही मोनिया बाद में भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी बने। उनका पूरा नाम मोहन दास करम चंद्र गाँधी था। गांधी जी ने अपना पूरा जीवन भारत और उसके लोगों के लिए समर्पित किया।
महात्मा गांधी की छवि आम तौर पर एक धीर-गंभीर विचारक, आध्यात्मिक महापुरुष और एक अनुशासन प्रिय राजनेता की रही है, लेकिन उनके ह्यूमर और हाजिरजवाबी का भी कोई जवाब नहीं था।
भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू (Jawaharlal Nehru) ने अपनी आत्मकथा में लिखा है, “जिसने महात्माजी की हास्य मुद्रा नहीं देखी, वह बेहद कीमती चीज देखने से वंचित रह गया।”
सरोजिनी नायडू (Sarojini Naidu) तो महात्मा गांधी को प्यार से ‘मिकी माउस’ बुलाती थीं। गांधी जी भी अपने पत्रों में उनके लिए ‘डियर बुलबुल’, ‘डियर मीराबाई’, यहां तक कि कभी-कभी मजाक में ‘अम्माजान’ और ‘मदर’ भी लिखते थे।
आजाद भारत के दूसरे और आखिरी गवर्नर जनरल चक्रवर्ती राजगोपालाचारी गांधी के बारे में कहते थे- “ही इज ए मैन ऑफ लाफ्टर।”

भारत और भारतवासियों के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित करने वाले महात्मा गांधी की ज़िन्दगी कभी निर्विवाद नहीं रही। चाहे पटेल की जगह नेहरू को प्रधानमंत्री बनवाने के लिए पूरा जोर लगाना हो या चौरी-चौरा कांड के बाद असहयोग आंदोलन वापस लेना। इन सभी में महात्मा गांधी के निर्णयों को सवालों के घेरे में लाया गया और उन्हें काफी विरोध का भी सामना करना पड़ा था।

आज गांधी जयंती के मौके पर राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द (President Ram Nath Kobind), उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू (Vice president M Venkaiah Naidu) और पीएम मोदी (PM Modi) सहित तमाम नेताओं ने राजघाट जाकर गांधी जी की समाधि पर पुष्पांजलि अर्पित की और उन्हें नमन किया।

राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के अलावा लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, मोदी मंत्रिमंडल के अनेक मंत्रियों, कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया सहित तमाम नेताओं ने भी राजघाट पर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी। इस अवसर पर समाधि स्थल पर सर्वधर्म प्रार्थना सभा का भी आयोजन किया गया।

राष्ट्रपति कोविन्द ने इससे पहले ट्वीट कर कहा, “गांधी जयंती के दिन बापू को श्रद्धांजलि। यह दिन हमारे लिए गांधीजी के संघर्ष और त्याग को स्मरण करने का अवसर है। आइए, हम सब उनकी शिक्षाओं, आदर्शों और जीवन-मूल्यों का अनुसरण करते हुए यह संकल्प लें कि हम सब उनके सपनों का भारत बनाने की दिशा में सतत प्रयत्नशील रहेंगे।”

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने ट्वीट कर कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती पर, मानवता को सत्य और अहिंसा का मार्ग दिखाने वाले विश्व गुरु की पावन स्मृति को कृतज्ञ प्रणाम करता हूं। महात्मा गांधी ने कहा था – “स्वच्छता स्वतंत्रता से भी अधिक महत्वपूर्ण है।” आज ‘स्वच्छ भारत दिवस’ के अवसर मेरा सभी से आग्रह है कि स्वच्छता को अपने दैनिक जीवन का अंग बनायें… इसे एक जन-आंदोलन बनायें।

पीएम मोदी ने ट्वीट कर महात्मा गांधी को याद करते हुए कहा, “राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को उनकी जयंती पर विनम्र श्रद्धांजलि। पूज्य बापू का जीवन और आदर्श देश की हर पीढ़ी को कर्तव्य पथ पर चलने के लिए प्रेरित करता रहेगा।” उन्होंने आगे कहा, “गांधी जयंती पर मैं आदरणीय बापू को नमन करता हूं। उनके महान सिद्धांत विश्व स्तर पर प्रासंगिक हैं और लाखों लोगों को ताकत देते हैं।”